Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Mohanjeet Kukreja

Others


5.0  

Mohanjeet Kukreja

Others


पता नहीं...

पता नहीं...

1 min 274 1 min 274

जिस्म यहाँ ज़रूर है, ख़ुद कहाँ है पता नहीं

धड़कन मौजूद है, दिल कहाँ है पता नहीं !


महफ़िल में चल रहा है, दौर गुफ़्तगू का...

सुन तो रहा है, तवज्जो कहाँ है पता नहीं !


गले में टांग रखी है पते की एक तख़्ती सी

बेख़बरी का आलम, रहता कहाँ है पता नहीं !


होता है यहाँ हर रोज़... मैकदे के खुलते ही

बंद होने पे मगर, जाता कहाँ है पता नहीं !


बहुत सी हसरतों को गला घोंट कर मारा है

इतनी लाशों को दफ़्नाता कहाँ है पता नहीं !







Rate this content
Log in