Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Avitesh R

Others


3  

Avitesh R

Others


मासूम की चीख़

मासूम की चीख़

1 min 248 1 min 248

छोटी और मासूम गुड़िया थी 

तुम्हारी भी तो मानो बच्ची ही थी 

रहम कर देते तुम उस नादान पर 

ग़लती इस सब में उसकी क्या थी 


क्यों और क्या सोचकर बलात्कार किया 

एक बार भी नहीं सोचा और इतना बुरा किया 

कुचला उस को तुम दरिंदो ने इस तरह 

मौत ने भी जैसे सिसक के कड़वा घूँट पिया


ऊपर वाला भी आज पछताया होगा 

क्यों इन दानवो को इंसान बनाया होगा 

वो माँ भी शर्मसार होगी आज इनपर 

जिसने ऐसे असुरों को दूध पिलाया होगा 


तुम्हारी सज़ा का बस एक नियम बनाया जाये 

काट के हाथ पैर सरे आम लटकाया जाये 

गरम सरिया से तुम्हे जलाते - तड़पाते रहे 

और बच्ची की माँ के हाथो ही तुम्हे मरवाया जाये 



Rate this content
Log in