End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

खामोशियाँ

खामोशियाँ

1 min 267 1 min 267

खामोशियाँ बोल सकती हैं

बहुत सी बातें

कह जाती हैं सब अनकही

सी बातें

खोल देती हैं ये अनबूझे सब

राज़ दिल के


समेट के रखे सदियों से

एहसास दिल के

कहाँ कह पाता है कोई इस

कदर जज़्बात अपने

लबों तक आते आते कँपकँपा

जाते है अल्फ़ाज़ अपने

ज़ुबान की क्या जुर्रत के कह

पाए कुछ भी


ये तो खामोशियाँ ही हैं जो

कह जाने का दम रखती है

फिर भी बदनाम ज़ुबान है और

कहने को कैंची सी चलती है

कसीदे हैं खामोशी के क्योंकि


अपनी चाल नाजुकता से चलती है

खामोशियाँ बोल देती है सब उनको

जिनकी बातें भी नहीं होती

इश्क़ उनका भी कायम रखती है

जिनकी मुलाकातें नहीं होतीं


खामोशियों को कभी किसी से

कम तर मत समझ लेना

कि आती है इनको कला

अल्फ़ाज़ों से बेहतर कह पाने की !


Rate this content
Log in