Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

नीलम पारीक

Others


5.0  

नीलम पारीक

Others


काश!

काश!

1 min 354 1 min 354

जाने कितने काश ?

दिल में लिये

भटकता रहता है मन,

काश ऐसा होता

काश वैसा होता


इसी काश की

मृग-मरीचिका में,

खो देता है वो

अपनी मुट्ठी में भरा

नन्हा सा आकाश भी..


Rate this content
Log in