Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Rupam Kumar

Others

2  

Rupam Kumar

Others

जब से ख़्वाब टूटे है

जब से ख़्वाब टूटे है

1 min
301


जब से ख़्वाब टूटे है,

अपने हम से रूठे है।


राब्ता नहीं है अपनों से,

दुनिया में सब झूठे है।


नींद न मुझ को आती है,

ख़्वाब भी तुमने लूटे है।


राहत है अब सीने को,

सिगरेट जब से छूटे है।


कोई न मेरी सुनता है,

कर्म जो मेरे फूटे है।


'मीत' के जो भी दुश्मन है,

 सब के सर पर जूते है।



Rate this content
Log in