Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Jyoti Agnihotri

Others


5.0  

Jyoti Agnihotri

Others


फ़िर ज़िन्दगी

फ़िर ज़िन्दगी

1 min 141 1 min 141

अतीत के दुःखते ज़ख़्मों पर ,

अब वक़्त की धूल जमने लगी है।

लगता है शायद अब फ़िर ज़िन्दगी,

अपनी ही रफ़्तार से चलने लगी है।


वेदना भी संवेदना- सी रोयी थी,

जब उन निःशक्त- निःशब्द सिसकियों ने,

धीमे-धीमे सदियों-सी बंधी गाँठें,

अपने ही बेजान हाथों से खोली थीं।


स्मरण-विस्मरण सब जीवन चरण,

इस हास्य-रुदन-जीवन-मरण ,

से भी है परे इस जीवन का उपक्रम।


अतीत के दुःखते ज़ख़्मों पर ,

अब वक़्त की धूल जमने लगी है।

लगता है शायद अब फ़िर ज़िन्दगी,

अपनी ही रफ़्तार से आगे बढ़ने लगी है।



Rate this content
Log in