Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Jyoti Agnihotri

Others


5.0  

Jyoti Agnihotri

Others


फ़िर ज़िन्दगी

फ़िर ज़िन्दगी

1 min 132 1 min 132

अतीत के दुःखते ज़ख़्मों पर ,

अब वक़्त की धूल जमने लगी है।

लगता है शायद अब फ़िर ज़िन्दगी,

अपनी ही रफ़्तार से चलने लगी है।


वेदना भी संवेदना- सी रोयी थी,

जब उन निःशक्त- निःशब्द सिसकियों ने,

धीमे-धीमे सदियों-सी बंधी गाँठें,

अपने ही बेजान हाथों से खोली थीं।


स्मरण-विस्मरण सब जीवन चरण,

इस हास्य-रुदन-जीवन-मरण ,

से भी है परे इस जीवन का उपक्रम।


अतीत के दुःखते ज़ख़्मों पर ,

अब वक़्त की धूल जमने लगी है।

लगता है शायद अब फ़िर ज़िन्दगी,

अपनी ही रफ़्तार से आगे बढ़ने लगी है।



Rate this content
Log in