Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Chandresh Chhatlani

Others


5.0  

Chandresh Chhatlani

Others


दो टुकड़े

दो टुकड़े

1 min 126 1 min 126

कभी घरों की चाबियाँ कुछ यों खो जाती हैं

दीवारें तो क्या छतें भी दो हो जाती हैं।


बिछड़े मन, हो दो सिरों वाले सांप जाते हैं

बिना डसे लेकिन बचपन काँप जाते है।


ताकते इक-दूजे को चंद टुकड़े खिड़की के

उंगली अंगूठी की पैर लगते हैं नर्तकी के।


सरहदें जो हाथों पे लकीरों के संग खिंच जाती है

ये कितने इंच का सीना कितनी गहरी छाती है?


सोचता हूँ कि आज भी क्या ऐसे दंपति हैं

जिनके नाम साथ हों जो नल-दमयंती हैं।


Rate this content
Log in