Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

बेनाम सी बारिश

बेनाम सी बारिश

1 min 429 1 min 429

बेनाम सी बारिश

और उसकी बेपरवाह बूँदें

मूझे बेखौफ बनाती हैं।


मेरी उलझनों को

मेरे ग़मों की लकीरों को,

वो पल भर में

दूर कर देती है।


न जाने क्या जादू है

इस बारिश में की

उस पल में

वो मुझ में और मैं उसमें

ठहर से जाते हैं।


यूँ लगता है

एक नई शुरुआत मिली है,

धुँधली सी एक सौगात

जो बूँदों ने साफ कर दी

वो अब जाकर मिली हैं।


मुझे मुझसे ही मिला दिया

बेनाम ही सही

पर जीने की राह दिखा दिया,

कोई वजह नहीं है

फिर भी भीगकर

यूँ ही मुस्कुरा लिया।



Rate this content
Log in