Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

SURYAKANT MAJALKAR

Others


3  

SURYAKANT MAJALKAR

Others


बदनाम

बदनाम

1 min 163 1 min 163

मैं तो आवारा न था

कभी बेचारा न था

इश्क़ गलीयों मैं फिरता 

बंजारा न था


तुमसे क्या निगाहें चार हुई

और मैं आम से बदनाम हो गया


 तुमसे न कभी मुलाक़ात हुई

 तुमसे न दिल की बात हुई

 

 न तुम्हारी नज़रे इनायत हुई

 न इश्क़ की इबादत हुई

 

 सारा शहर चर्चा होने लगा

 कोई पाग़ल मजनू घूमने लगा


Rate this content
Log in