Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

parag mehta

Others

5.0  

parag mehta

Others

बात तो फिर!!

बात तो फिर!!

1 min
252


बात तो फिर उस साथ में है !

जो छूट कर भी ना छूटे !!


बात तो फिर उस यार में है !

जो रूठ कर भी ना रूठे !!


बात तो फिर उस दरार में है !

जो उग कर भी ना उगे !!


बात तो फिर उस करार में है !

जो टूट कर भी ना टूटे !!


बात तो फिर उस इंतजार में है !

जो थम कर भी ना थमें !!


बात तो फिर उस गुबार में है !

जो फूट कर भी ना फूटे !!


बात तो फिर उस ऐतबार में है !

जो साथ छूट कर भी ना छूटे !!


Rate this content
Log in