Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Rashmi Prabha

Others

4.9  

Rashmi Prabha

Others

अब नहीं कहता कोई

अब नहीं कहता कोई

1 min
238


आजकल

हर जगह

बहुत हाईफाई

सोसाइटी है

कोई किराये पर है

कुछ के अपने

अतिरिक्त घर हैं


सुविधाओं का अंबार है

भीड़ बेशुमार है

कोई किसी से

नहीं मिलता

कभी हो लिए रूबरू

तो सवाल होता है

कहाँ से हो ?

जाति ?

अपना घर लिया है या ...?

मेरा तो अपना है !

बाई है ?

क्या लेती है ?

कौन कौन से

काम करती है ?


अब नहीं कहता कोई

कि मेरे घर आना !

अगर फिर भी

कोई आ गया

तो चेहरे पर खुशी

नहीं झलकती

और दूसरे के माध्यम

से सुना देते हैं लोग

सेंस नाम की

चीज ही नहीं है

कभी भी चले आते हैं ...

अब तो भईया

पार्क जाओ

जिम जाओ

स्विमिंग सीख लो

औरों को फिट

रहना सिखाओ

और ....


मन ही मन

बुदबुदाती हूँ

बातें करती हूँ

अपने आप से

जब शरीर

जवाब दे जाए

अकेलापन कॉल

बेल बजाने लगे

सेंसलेस

 ... कभी भी

तब सुविधाओं के

कचरों की ढेर से

ज़मीनी सोच के साथ

बाहर आना

क्या पता कोई अपने

स्वभाववश

तुम्हारे साथ हो ले

अकेलेपन को

सहयात्री मिल जाए ....!


Rate this content
Log in