Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Ritu Sama

Others


5.0  

Ritu Sama

Others


आओ फिर से मेरे आँगन में

आओ फिर से मेरे आँगन में

1 min 282 1 min 282

आओ फ़िर से मेरे आँगन में

फूलों के बुलाने पे तो कभी मेरे निमंत्रण पे

हवा के झोंकों में तुम्हारी तबियत झलके

कुछ उम्मीद भरी और कुछ शिकायत लिए


दिल हर्षा दो मेरा फ़िर से अपने कहकहों से

लतीफ़े बेहद पुराने और यादें ताज़ी ताज़ी

गिला मुझसे भी करो कि मैं दिलचस्प बातें

क्यों नहीं करती

या फ़िर तुम भी सुनाओ बोरियत के वो

अनंत किस्से


वो आमने सामने बैठे कॉफ़ी पर लम्बे फ़लसफ़े

या फ़िर दुनिया के गर्क में जाने की शंकाएँ

मैं फ़िर इठला के तुम को पढ़ाऊँ अपनी नई

नज़्म की एक दो लाईने

और तुम कुछ झूठी और कुछ सच्ची वाहवाही

किये मुस्कुराते हुए


घड़ी घड़ी हाथ पर समय देख के भूल जाना,

वक़्त बहुत है अभी बातें कर ले ख़तम जल्दी जल्दी

और अचानक से फ़िर बिना पलटे रुखसत होना

कि मुड़ के देखोगे तो लम्हा थम ना जाए वही कहीं


एक बार फ़िर से वो लम्बी दोपहर आई है

आओ फ़िर से मेरे आँगन में

फ़िर से दोस्ती के लिए समय रुका है

ज़िन्दगी की दौड़ धूप से छुट्टी लिए


Rate this content
Log in