Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Isha Kathuria

Others


2  

Isha Kathuria

Others


आज का युग, अलग रहने में सुख

आज का युग, अलग रहने में सुख

1 min 215 1 min 215

जो सुखों की सौगात लेकर आए

वह परिवार

जो दुखो में भी साथ निभाए

वह परिवार

जो कठिनाइयों में भी छोड़कर ना जाए

वह परिवार

और जो दुनिया के ठुकराने पर भी प्यार जताए

वह परिवार

पर आज का परिवार इतना अलग क्यों है यार

क्यों नहीं है पापा और चाचू के बीच वो प्यार?

दादा दादी को क्यों देखने जाते बच्चे हफ्ते में एक बार

और साथ रहना तो दूर 

अपनों ने ही खड़ी कर दी है नफरत की दीवार

सास बहू के बीच हर रोज़ नई तकरार

अब क्या भाई बहन का भी शुद्ध नहीं प्यार?

तू कहाँ आ गया भागते भागते ऐ इंसान

परिवार भले ही छूट जाए, पर पैसों में अटकी तेरी जान

आज अगर मम्मी पापा ही रहे साथ

तो वह ही कहलाता संयुक्त परिवार

क्योंकि ताऊ ताई के अपने ठाठ

वो क्यों रहेंगे सबके साथ?

दादू दादी घर पर बन जाए बोझ

तो उनके लिए होती वृद्धाश्रम की खोज

अरे क्यों लें हम साथ रहने की सिरदर्दी

रिश्ता निभाने के नाम पर हर सदस्य ने हद कर दी

वाह रे बंदे तेरा परिवार

क्यों खत्म इस शब्द का सार

इस दुनिया को कर रहा अशांति के लिए तैयार

क्योंकि परिवार के टूटने में तेरी ही हार ।


Rate this content
Log in