Twinckle Adwani

Others

3  

Twinckle Adwani

Others

परिवर्तन

परिवर्तन

1 min
405



खिड़की से बाहर निहार रही सपना कहीं बच्चों को पटाखे फोड़ते तो कहीं महिलाएं रंगोली डालते देख .... हर किसी का घर दियों तो कहीं लाईट से जगमगा रहा था मन ही मन अपने धर्म बदलने का दुख महसूस कर रही थी ।शाम से रात होने लगी घरो से शंख आरती की आवाज़ें आने लगी कुछ ही देर बाद महिलाओं की टोली निकली जो सबकी रंगोली देखती ,सबको बधाइयां देती ,मुंह मीठा करते ,जय श्री कृष्णा कहते बढती जा रही थी।

डोर बेल बजते ही सपना नीचे जाती है सब बधाइयां देते ,मुंह मीठा करा रहे थे सपना उनकी टोली मे शामिल होकर आगे बढती जा रही थी,मानो बेड़ियाँ तोड़ आगे ...... बालकनी मे खडा विनोद कुछ न कर सका 

शुभ दिपावली कहकर बच्चों की टोली पीछे .....



Rate this content
Log in