कोट्स New

ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : others

खैर कुछ दिनों बाद वो दिन भी आया जब हमें प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखना थे। जैसे कि read more

6     320    2    1698

एक एस्किमो कहानी अनुवाद : आ. चारुमति read more

4     460    8    2496

जगदीश
© Pranali Kadam

Children Stories Others

हळूहळू मग गावातली लोकं पण जमा झाली होती. त्यांना झालेली घटना समजते. गावातली लोक सगळे read more

7     256    49    769

"नहीं मांजी, डरपोक नहीं बनेगा ये रोने से बल्कि इसे समझ आएगा कि दर्द होता है तभी कोई read more

1     170    11    387

बचपना
© Vinay Panda

Children Stories Others

हाथ-पैर मार रहे थे पानी में खूब मगर आगे और ना पीछे जा पा रहे read more

2     216    13    4329

'लेकिन घर की आर्थिक स्थिति को समझते हुए उन्हें अपने फैसले बदलने पड़े | उन दिनों read more

4     16.3K    606    12

बचपन में बच्चों में अच्छी आदतें डालने के लिए माँ बाप को नये नये तरीके सोचने पड़ते हैं read more

4     16.1K    588    14

'अपाहिज बनी हुई एक महिला अपनी तकलीफ के लिये परिवार के ऑर लोगो को परेशान नहीं करना read more

5     8.7K    582    82

डाक्टर साहिबा ने अस्थाई उपचार के लिए थोड़ी सी दवाइयाँ दे दी, लेकिन स्थायी उपचार के read more

3     8.3K    579    83

बच्चों के बचपन की read more

2     8.5K    567    64

'भोला के लिये गुरूजी उसके भगवान थे और उनकी हर आज्ञा पत्थर की लकीर थी | वह एक read more

4     16.0K    596    13

लाड़की
© Noorussaba Shayan

Crime Inspirational +1

'जिसे अपने कपड़ों , किताबों का ध्यान नहीं होता था वो अब मेरी दवाइयों और चाय का read more

4     7.6K    60    755

वह ठेला नहीं था, उस ठेले के हर मर्तबान में, हर शीशी में, हर थैली में, उनके घर का read more

3     242    28    219

यह कहानी मेरे छात्र जीवन में घटित एक सत्य घटना पर आधारित संस्मरण है। यह कहानी मेरी read more

13     203    47    236

बुकस्टोर
© Ashutosh Shrivastwa

Classics Inspirational +1

बीते सोमवार को उनका इंतकाल हो गया। अब किताबों के साथ साथ उनके इतर की खुशबू भी आती read more

1     152    48    482

स्कूल जाते समय एक नाग की वजह से लोकेश की साइकिल का संतुलन बिगड़ा और वो गहरी खाई में read more

10     157    5    515

पापड़ी
© Vikas Bhanti

Others Inspirational

कहानी सत्य घटना पर आधारित है read more

4     332    53    313

सर, मुझे दिल्ली में ही रहना है। मैं एक सप्ताह में ज्वाइन करने के लिए तैयार हूँ। और read more

4     15.6K    428    26

उन दिनों, यानि आज से करीब ६० साल पहले, गणेश चतुर्थी के पर्व को, लोक भाषा में, लोग read more

2     6.5K    417    317

दफ़्तर के बाहर, कौओं की तेज काँव-काँव सुनकर कुछ लोग बाहर आए। मुझे देखकर उनको read more

9     19.3K    526    325

मैं सदियों से उसका राज़ अपने सीने में छुपाने के लिए ख़ुद को दाद देता read more

13     316    23    332

" तस्वीर बढ़िया बनी है पर आपने इस तस्वीर में मेरे बाल ज्यादा बना दिये हैं जबकि मेरे read more

3     196    25    375

लेखक -अलेक्सान्द्र कुप्रिन अनुवाद - आ. चारुमति read more

23     476    49    414

मेरा मन बहुत दुख रहा था। जिन पापा को जीते जी इन लोगों ने इतना दुख दिया था। वो आज read more

1     314    44    428

लेखक : इवान बूनिन अनुवाद : आ. चारुमति read more

8     323    56    468

'क्या तुम्हें मालूम है कि जहाज कैसे चलता है ? हमने कहा, जहाज के पीछे एक पंखा होता read more

4     8.5K    571    63

उम्मीदों के पंख लगाकर स्वपन सजीले बुनते थे या यों कहें कि कुल मिलाकर कब पाँव धरा read more

1     216    49    479

समाज का read more

3     21.3K    24    491

रेल की टिकट नहीं मिली तो बस में सफ़र करना पड़ा, मेरी सीट के बगल में एक मोटा थुल थुल read more

10     402    7    507

और हवा खामोश हो read more

20     16.6K    383    566