लाल बत्ती

लाल बत्ती

2 mins 303 2 mins 303

लाल बत्ती का हमारे यहां पर बहुत महत्व है। ट्रैफिक सिग्नल की बत्ती लाल हो जाती है तो हमें रुकना ही पड़ता है और वह जब तक लाल रहे हमको खड़ा ही रहना पड़ता है। किसी अधिकारी या राजनेता की कि लाल बत्ती वाली गाड़ी देखकर आपको उसके सामने रुकना ही पड़ता है। कोई साधारण गाड़ी हो और उसमें चाहे कितना ही बड़ा अधिकारी क्यों ना हो आप टक्कर मारकर या अनदेखा भी करके निकल सकते हो पर लाल बत्ती का सम्मान करना ही पड़ता है।

लाल बत्ती एंबुलेंस पर भी लगी होती है तो आपको उसे भी साइड देनी पड़ती है और लाल बत्ती खतरे की भी पहचान होती है तो आप उससे दूर हटने या उस खतरे को टालने की कोशिश करेंगे। तो सभी को देखते हो लाल बत्ती मतलब पावर, कानून जो कि सब को मानना ही पड़ता है। 

और इन सबसे बड़ा लाल बत्ती का कानून पावर सबके घरों में होता है जिसको हर किसी को मानना ही पड़ता है। आप आधिकारिक लाल बत्ती को कभी कभार अनदेखा कर सकते हैं, पर घर की लाल बत्ती के पावर को नहीं। और वह लाल बत्ती का पावर है पत्नी जिसका कानून आपको हर हालत में मानना ही पड़ता है। भले ही आप खुद दूसरों पर कानून चलाते हो। अगर कोई बंदा मार्केट या कहीं भी किसी मांग भरी औरत को देखता है तो साइड से होकर निकल जाता है क्योंकि उसे पता है कि इनकी सरकार बन चुकी है और इनके पावर का दबदबा है।

अगर घर पर इनके कानून का मामूली सा भी उल्लंघन हुआ है तो दो-चार अनुच्छेद हम पर भी थोपे जा सकते हैं। और कभी-कबार इन लाल बत्ती के पावर का आदेश की मान्यता नहीं होती तो वह केंद्र सरकार ( हाईकॉर्ट) में अर्जी लगाकर खुद ही अपने शासनकाल को खारिज कर सकती हैं। तो इस तरह से जैसे भी हो जो भी हो हमारे यहां पर लाल बत्ती का बहुत हद तक बोलबाला है और हर किसी को चाहते, ना चाहते हुए इसका पालन करना ही पड़ता है।


Rate this content
Log in