beena goyal

Children Stories


3  

beena goyal

Children Stories


कर्फ्यू का तीसरा दिन

कर्फ्यू का तीसरा दिन

1 min 111 1 min 111

आज मन बहुत अजीब सा हो रहा है छत पर घूम आती हूँ वैसे तो कहाँ समय रखा है इस भागदौड़ भरी जिंदगी में ,अरे थोड़ा समय निकाल कर पौधे को सही कर दूं वैसे तो रोज ही करती हूँ लेकिन ज्यादा समय नहीं दे पाती हूँ आज मैं सारे पौधों का कुछ ज्यादा ही समय दूंगी जिससे कि मेरा मन भी अच्छा हो जाएगा और मुझे खुशी होगी जैसे छत पर जाकर देखा तो वहां एक अच्छा नजारा था माता-पिता अपने बच्चों के साथ खेल रही थे कुछ पतंग उड़ा रहे थे कुछ बैट बॉल खेल रहे थे बच्चे बहुत खुश लग रही थे क्योंकि इस कोरोना वायरस की वजह से बच्चों पर पढ़ाई का कोई बोझ नहीं था आजकल बच्चों पर पढ़ाई का बोझ इतना है कि बच्चों के खेलने का समय ही नहीं।


Rate this content
Log in