एक प्रयास

एक प्रयास

6 mins 156 6 mins 156

लेकिन आप मुझसे ही शादी क्यों करना चाहते है? आप स्मार्ट है, वेल सेटल है, आपको मुझसे भी बेहतर लड़की मिल जायेगी?" शिखा ने कहा।

निर्मल मुस्कुरा रहा था। वह बोला- " आपने जो कहा वो सत्य है। आपके इनकार के बाद भी मेरी पहली पसंद आप ही है।"

शिखा की स्पष्ट वादिता और निडर स्वभाव ने निर्मल को बहुत प्रभावित किया था। तब ही तो पूर्व में शिखा की विवाह हेतु अस्वीकृति जानते हुये भी निर्मल ने अपने हृदय की बात शिखा को बताना उचित समझा।

"शिखा, आपने अपने मन की बात मुझे पूर्व में बताई थी। इसलिए मैं अपने मन की बात आपको बताने आया हूं।" निर्मल ने काॅफी का कप टेबल पर रखते हुये कहा।

"किन्तु मुझे लगता है कि मेरी असहमती ही काफी है, हमारे भावि रिश्ते को यही पर समाप्त करने के लिए?" शिखा मुखर थी।

"जी हां। आपकी अस्वीकृति मुझे मिल चूकी है। फिर भी मुझे यह आभास हुआ है की अपने हृदय की बात आप तक पहूंचाना मेरे लिए परम आवश्यक है। इसके पीछे आपके निर्णय को बदलने की मेरी कोई योजना नहीं है। हां मगर यह अवश्य चाहता हूं कि अपने इस प्रयास से हमारे भावि रिश्ते की कोई भी संभावना बनती है तो यह मेरी उपलब्धि होगी।" निर्मल बोला।

"मगर मैं एक बार निर्णय ले चुकी हूं। इससे पलटना मेरे लिए असंभव है।" शिखा बोली।

"मेरी आपसे यह भेंट किसी दबाव अथवा आपको परेशान करने के उद्देश्य से कतई नहीं है। मैं यह चाहता हूं कि जो मैं आपके विषय में समझ सका हूं वह आपको बताऊं।" निर्मल सीधे उद्देश्य पर आने को लालायित था।

"मगर इससे क्या लाभ होगा? आप मेरी प्रशंसा में कुछ बढ़ा-चढ़ाकर कुछ कहेंगे। मुझे प्रभावित करने की हरसंभव कोशिश करेंगे। और मुझे यह सब अच्छा नहीं लगता।" शिखा ने काॅफी का अंतिम घूंट खत्म करते हुये कहा।

"शिखा जी। में यह तो नहीं कह सकता कि मैं आपकी प्रशंसा नहीं करूंगा। जो वास्तविकता मुझे अनुभव हुई वह मैं स्वीकार कर चूका हूं। आपको भी सुनना चाहिए।" निर्भीक निर्मल बोला।

"ठीक है। कहिए जो आपको कहना है।" अधीर शिखा बोली।

"मैंने अपने विवाह हेतु बहुत सी लड़कियाँ देखी। सुन्दर और सुशील। सभी तरह की। कुछ तो मुझसे भी अधिक सफल है अपनी लाइफ में। एक दो लड़कियाँ मुझे पसंद भी आई थी। जिनसे विवाह होने की पुरी-पुरी संभावना भी बन रही थी।" निर्मल बोला।

"फिर क्या हुआ?" शिखा बोली।

"मेरी तरफ से भी हां ही थी। बस कुछ समय चाहिए था हमें, एक-दूसरे को जानने-समझने का। रितुपर्णा बहुत खुले विचारों की थी। उसे अपनी स्वतंत्रता अत्यंत प्रिय थी। जिसे बनाएँ रखने के लिए वह हर संभव प्रयास करने और कुछ भी कर गुजरने वाली लड़कियों में से थी।" निर्मल ने बताया।

"इसमें मुझे कोई गल़त नही लगा। सभी को स्वतंत्रता से जीने का पूर्ण अधिकार है।" शिखा बोली।

"सही कहा। किन्तु स्वतंत्रता और मनमानी में अंतर होता है। स्वतंत्रता मर्यादित हो तब रूचिकर लगती है किन्तु मनमर्जी के व्यवहार से परहेज करना चाहिए।" निर्मल ने तर्क दिये।

"आप लड़के लोग भी तो अपनी स्वतंत्रता से किसी भी तरीके का समझौता नहीं करते हो। लड़कियाँ यह सब करे तो इसमें आपको इतनी आपत्ति क्यों है?" शिखा बोली।

"जो युवक ऐसा करते है मैं उनका भी विरोध करता हूं। स्वतंत्रता के साथ संयमित आचरण और उच्च आदर्शों का परिपालन या समर्थन एक साथ हो तो एक बेहतर जीवन जिया जा सकता है।" निर्मल ने आगे कहा।

"लेकिन आपको ऐसा क्यों लगता है कि मैं आपकी इच्छानुसार एकदम फिट बैठती हूं।" शिखा अब निर्मल की बातों में रूचि लेने लगी थी।

"शिखा! मुझे लगता है कि विवाह, जिसे एक बंधन भी कहा गया है, इसे नियमों का बंधन कहूं तो अनुचित नहीं होगा। पति-पत्नी का परस्पर व्यवहार  एक-दूसरे के हितार्थ होना चाहिए। जिसके लिए उन दोनों के मन में विवाह संबंध के प्रति गहन आस्था का होना आवश्यक है। विवाह एक औपचारिकता भर न हो। इसमें दोनों के पारिवारिक सदस्यों और स्वंय वर-वधु की प्रसन्नता और अनुमति परम आवश्यक है। इसके परिणामस्वरूप ही यह बंधन संबंध बनकर आगे बढ़ेगा और सफलता प्राप्त करेगा।" निर्मल बोल रहा था। शिखा ध्यान से उसकी बातें सुन रही थी।

"जहां तक तुम्हारी बात है तो मुझे तुम्हारी विवाह के लिए असहमती ने प्रभावित किया है। व्यक्ति को न कहना भी आना चाहिए। ऐसा नहीं है कि मुझे इससे पहले लड़कियों ने न की हो! मगर मुझे उन लड़कियों की न में उनके भविष्य के प्रति चिंता दिखाई दी। जबकि तुम्हारी न में एक असीम आत्मविश्वास था। मानो तुमने अप्रत्यक्ष रूप से मुझे यह बता दिया हो कि तुम मुझसे ही नहीं अपितु अभी किसी भी लड़के से शादी नहीं करना चाहती। तुम अपने भविष्य के प्रति आशान्वित हो और हो सकता कि किसी मुकाम पर पहुंचने के बाद ही तुम शादी करो?" निर्मल ने बताया।

"ऐसा नहीं है। मुझे कोई भी बंधन अपने लक्ष्य को हासिल करने से रोक नहीं सकता।" शिखा बोली।

"ये तो ओर भी अच्छी बात है शिखा! देखो। अगर तुम चाहो तो मैं तुम्हारी प्रतिक्षा करने के लिए तैयार हूं।" निर्मल ने कहा।

"निर्मल! आप निश्चित ही एक अच्छे इंसान है और मुझे विश्वास है कि आप एक अच्छे पति सिद्ध होंगे। किन्तु अभी विवाह के लिए में तैयार नहीं हूं। और मैं यह भी नहीं चाहती कि आप मेरा इंतज़ार करे!" शिखा बोली।

"शिखा! मुझे समझने में यहां तुम चूक गई।" निर्मल ने कहा।

"वह कैसे?" शिखा ने पूछा ।

"मैंने यह अवश्य कहा कि मैं तुम्हारी प्रतिक्षा करने के लिए तैयार हूं किन्तु तब जब तुम मेरे प्रति सकारात्मक सोच न बना लो तब तक। उस पर यह भी की मैं वैवाहिक जीवन जीने के लिए शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से तैयार हूं। और चूंकि मैं भी एक सामाजिक प्राणी हूं अतएव एक निश्चित समय तक मैं तुम्हारी प्रतिक्षा करूँगा तदउपरांत अपने लिए उचित जीवन साथी तलाश कर उससे विवाह करना मेरे लिए न्याय संगत होगा।" निर्मल बोला।

"लेकिन आपको तो मैं युनिक लगती हूं। सबसे अलग। फिर मेरे जैसी लड़की क्या आपको मिल पाएगी?" शिखा ने व्यंग्य कसां।

"शिखा! हर किसी को नहीं मिलता यहां प्यार जिन्दगी मेंsss! मैंने अपना जीवन बेहतर बनाने के लिए हरसंभव प्रयास किया है और आगे भी करता रहूँगा। मुझे यह भी विश्वास है कि जिस प्रकार मुझे किसी की तलाश है ठीक उसी तरह किसी को मेरी भी तलाश होगी?" निर्मल बोला।

"इसका अर्थ है कि आप किसी से भी विवाह करने के लिए तैयार हो जायेंगे?" शिखा ने पूछा ।

"नहीं। जो मुझसे विवाह करने को तैयार होगी अंततः मुझे उसे स्वीकार करना होगा। अधिक बेहतर की अभिलाषा में कम बेहतर भी हाथ से निकल सकने की पुर्ण संभावना बनी रहती है।" निर्मल बोला।

"तब आप यह निर्णय मुझसे मिलने से पहले भी ले सकते थे।" शिखा बोली।

"जरूर ले सकता था। किन्तु आखिर में मैं भी सामान्य आदमी हूं। एक प्रयास करने भर से यदि तुम्हारी जैसी लड़की जीवनसाथी के रूप में मिल जाए तो इससे अच्छी बात मेरे लिए और क्या होगी?"

निर्मल बोला।

"यू मीन! मेरे इनकार के बाद आप अन्यत्र विवाह कर लेंगे?" शिखा ने पूछा ।

"जी हां! लेकिनssss?" निर्मल बोलते-बोलते रूक गया।

"लेकिन क्या? " शिखा ने पूछा ।

"मुझे यह भरोसा हो जाये कि तुम मुझसे विवाह नहीं करोगीं तब निश्चिंत होकर मैं अन्यत्र विवाह कर सकूंगा।" निर्मल ने बताया।

"निर्मल! आपसे इतनी सारी बातें करने और आपके विचार जानने के बाद भी यदि मैं आपसे शादी न करूँ तब निश्चित ही यह अनुचित होगा। आप जैसा समझदार जीवनसाथी मिलना सौभाग्य की बात है।" शिखा ने निर्मल से शादी करने की सहमति दे दी।

"आज मेरी प्रसन्नता का छोर नहीं है। मुझे स्वीकार कर तुमने अपना बड़प्पन दिखाया है।" निर्मल उत्सुक था।

"विवाह की शेष बातें अब हम अपने-अपने घरवालों को करने दें तो उचित होगा।" शिखा कुर्सी से उठते हुए बोली। दोनों ने हाथ मिलाकर विदा ली।

निर्मल मुस्कुरा रहा था। उसका यह प्रयास सफल हो चुका था।



Rate this content
Log in