Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

आकिब जावेद

Others

5.0  

आकिब जावेद

Others

नज़्म

नज़्म

1 min
443


है पास दिल के यूँ ख़ास आँखे

यूँ रहती है आस-पास आँखे


छुपा लिया उसने दर्द अपना

थी सुर्ख़ उसकी बिंदास आँखे


छुपा हुआ कुछ नज़र न आया

था पहने वो भी लिबास आँखे


न पास आया वो दूर जा कर

बिछड़ के उससे इयास आँखे


न दूर जाना यूँ छोड़कर तुम

करेगी ये इल्तिमास आँखे


Rate this content
Log in