Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Shweta Mangal

Others

4.6  

Shweta Mangal

Others

नीरवता

नीरवता

1 min
291


नीरवता के इन क्षणों में

ऐसा प्रतीत होता है मुझे

मानों मैं भटक रही हूँ

एक बीहड़ वन में

घिरी हुई हूँ कंटकों से चहुँ ओर


नहीं है कोई भी जो

उबार ले मुझे इस संकट से

जो पुकार ले मेरा नाम

और कर दे इस नीरवता को भंग


तरस जाती हूँ

मैं किसी आवाज हेतु

किन्तु यह नीरवता

बढ़ती ही जाती है

हृदय विदारक होती ही जाती है


भागती हूँ मैं इससे

एक भयभीत मृग समान

पर यह नीरवता

मुँह खोले बाघ के सामान

मेरा अनुसरण करती है


और मैं डूबती ही जाती हूँ

इस नीरवता में

जैसे तूफान में फंसी

एक कागज की नाव


कभी मैं तरसती थी

शांति के चंद पलों हेतु

परन्तु अब यह हृदय विदारक नीरवता

मानो मेरा हमसाया बन गयी है


Rate this content
Log in