Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Onkar Awachare

Others

1.0  

Onkar Awachare

Others

मौत

मौत

1 min
392


क्या इस रास्ते है वो आख़िरी

सिरा 

जिस तक चलने को जिंदगी

हूं मैं मानता


क्या उस सच है वह रूप

जिस से सब मुंह मोड़ते

जिंदगी नाम पर्दे के पीछे

जिसे पर छिपाए है रखते


क्यो इसका नाम सुनते ही

मेरी रुह है कांपती

दर्द से भी ज्यादा इसकी

छांव है डराती

 

क्यो इससे दूर हूं मैं भागता 

जिंदगी भले नरक सी क्यूँ ना हो 

फिर भी मौत से ही डरता


रात होते ही 

उस अंधेरे में उजाला हूं

ढूँढता

इस मौत के सफर में 

जिंदगी के सहारे हूँ चलता

इकलौती वो मंज़िल सबकी

न कोई उसे चाहता



Rate this content
Log in