End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

Paramita Sarangi

Others


5.0  

Paramita Sarangi

Others


मैं

मैं

1 min 383 1 min 383

तुम्हें राजुती करने का

अधिकार दिया था मैंने

मान रही थी सारे हुक्म

तुम्हारी छाया के नीचे

जकड़ गया था

मेरा सम्मान

बिना करवट लिए


प्रेम नर नारी के

एक युद्ध, आदर्शों के, 

भ्रम के, कल्पना और विलास के

नष्ट हो जाता है दुर्बल

जीत ही जाता है बलवान

बूद्धि भी प्रबल हो जाती है

इच्छा शक्ति के साथ


पति और पिता के कर्त्तव्य

फिर

और क्या काम पुरुष के

बन्द है दरवाज़ा

कैसे रोकूं

आहट तुम्हारी हिंसक प्रकृति की


कोशिश है मेरी बार बार

अंकुरित होने के लिए

मगर काट दिया तुमने

जड़ को मेरी


सूख गई हूं मैं, मेरा अस्तित्व

सूखी रेगिस्तान है 

ज़िन्दगी मेरी, 

फिर भी, झांक रहा था

एक साया, सम्मान मेरा


अहिल्या हूं, सीता हूं, द्रौपदी भी हूं

क्रोध मत दिलाओ

वरना, गुम जाओगे तुम

खो जाएगा बुनियाद 

और उस वक्त, करवट ले

रहा होगा 

अन्य एक नया युग।


 



Rate this content
Log in