Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Mayank Kumar 'Singh'

Others

5.0  

Mayank Kumar 'Singh'

Others

कुछ दिन बीत गए

कुछ दिन बीत गए

1 min
340


कुछ दिन बीत गए

उत्सव की भांति !

रात जैसे याद

सपनों की भांति

बीत गए दिन रोज़

अमावस्या की भांति


कुछ दिन बीत गए

ऋतुओं की सांची


आप में हम बीत गए

सावन की भांति

रोग- बला ठिठकी

कमजोर बदन सिसकी !


डॉक्टर मुझे दिख रहे

शत्रु की भांति

कुछ दिन बीत गए !


शक है रोगी हम

दुष्यंत की भांति

चाँद जैसा दाग है

सुंदरता में अड़चन

लेकिन

बात वहीं अटकी

रोगों से ग्रसित हम

पर देख वहां खड़ा

कौन है ?

दवा लिए हाथों में

लगता है कृष्ण वहां

मुझ को बुलाते हैं

देख मेरी आँखों को

कितना भावुक यह

श्याम के दर्शन को !


रोग - बला भस्म हुई

पितांबर की माया से

मैं भी प्रफुल्लित उठा

एक बालक की भांति

पर

कुछ दिन बीत गए !!



Rate this content
Log in