Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

Babita Jha

Others


4  

Babita Jha

Others


जय भवानी

जय भवानी

1 min 279 1 min 279


अम्बे शैलपुत्री तारणहारनि

पापो का निवारण हारनि

जय जग माता

तुम ही हो भाग्य विधाता

सुख शांति वैभवशाली

तुम सा नहीं कोई शक्तिशाली

अब तो हरो विपदा हमारी

नहीं तो मिट जाएगी 

ये धरती सारी

दूसरा रूप है ब्रह्मचारिणी

तुम ही हो दुखहारणि

तुम ही हो जग की माता

सबकी हो भाग्य विधाता

आज यही है आस हमारी

कब मिटेगी त्रास हमारी

तीसरा रूप माता चन्द्रघंटा

चारों ओर बजे है डंका

फैल रही घनघोर घटा

विनय करू मिटाओ हर शंका

जय जग माता

भाग्य विधाता

चौथा रूप धरी कूष्माण्डा 

उच्च पवित्र लहराये झंडा

आसीन हुई सिंह के ऊपर

हस्त धारण करके खप्पर

अब मिटाओ विपदा हमारी

जय जग माता

भाग्य विधाता

पांचवा रूप स्कंदमाता

अब हमे कुछ भी नहीं भाता

रूप माँ की ऐसे ही निहारू

देख जिसे जीवन सवारूँ

जय जग माता

भाग्य विधाता

छठां रुप कात्यायनी देवी

चारों ओर दिखाई छवि

तुम बिन कौन हरे दुख मेरी

तुम तो हो महिषासुर मर्दिनी

जय जग माता

भाग्य विधाता

सातवें रुप है कालरात्रि

तुम अनेकों रूप धात्री

कर में खप्पर खडग विराजे

तुमको देख काल भी भागे

जय जग माता

भाग्य विधाता

आठवां रूप महागौरी की

सुहावन लागे

लाल जोडे में माता रूप यह जागे

धर लो सभी रूप हे अम्बे

जय जग माता

भाग्य विधाता

नौवां रूप सिद्धिदात्री 

मुक्त करो हे मात 

इस नवरात्रि

सभी रूपों का करूँ आवाहन

सिहं का तुम्हारा है वाहन

जय जग माता

भाग्य विधाता

कब होगी पूरन यह आशा

भटक रही बनके पिपासा

मातुश्री सुन लो अरज हमारी

तब ही पूरी होगी भक्ति सारी

जय भवानी


Rate this content
Log in