Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Asha Pandey 'Taslim'

Others


5.0  

Asha Pandey 'Taslim'

Others


जूता

जूता

1 min 331 1 min 331

भाई के पास कितने भी जूते हो

बचपन से उसे पापा के जूते को

कभी घूरते तो कभी प्यार से

निहारते देखा है

पंद्रह की उम्र में 

जब पापा के जूते 

भाई के पैरों में 

एकदम फ़िट हो आया

उसे इतरा कर चलते देखा है


आज सोचती हूँ 

क्या देखता था भाई?

क्या सोचता था?

पापा का जो रुतबा था 

घर और बाहर

उसे वो 

उन जूतों की चमक, दमक में

देखता था?


आज जब 

अपने बेटों को देखती हूँ

अपने जूतों को छोड़कर 

अपने पापा के जूतों की ओर लपकते

तो सोचती हूँ

क्या महसूस करते है वे


कहते है कि 

आज के इस ड्रेस के लिए 

परफ़ेक्ट है पापा के ये जूते

तब भी वही सवाल उमड़ता है

ज़ेहन में बार-बार

क्या जूतों संग पापा की ज़िम्मेदारी

पापा का रुतबा

परिवार में उनकी जगह

मेहनत और समाज

इन सबकी तरफ 

बढ़ते क़दम से क़दम

पापा के जूते पहनकर यह सब

ये निभा पायेंगे?


उन क़दमो में नहीं होता मचमच 

नहीं होती है ऐंठ उन जूतों में

पापा के जूते आहत नहीं करते

यह जूते ही नहीं 

अपने परिवार के प्रति 

एक जवाबदेह क़दम हैं


क्या हर बढ़ता बेटा 

पापा के इन जूतों संग 

जिम्मेदारियों के बोझ का भी

आदी बन चुका है?

या इस बढ़ते पाँव को 

अभी भी 

पापा के इन जूतों से ही

सहारे की उम्मीद है?


पापा के जूते बहुत भारी होते हैं

सरलता से यदि उठ रहे हो क़दम

बिना थके 

तो पापा के जूते 

हर बढ़ते बच्चे के लिये पर्फेक्ट है।


Rate this content
Log in