Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Shraddha Pandey

Others

4.5  

Shraddha Pandey

Others

एक अनजान सा रिश्ता

एक अनजान सा रिश्ता

1 min
599


बस एक बार मैंने उसे खाना खिलाया था,

जब जब घर से निकली

उसको अपने पीछे पाया!!

कौन था वो क्या लगता है मेरा,

कुछ नहीं जानती मैं,

बस कुछ ही मुलाकातों से हूँ

उसे अपना मानती!!

कोई नहीं अपनाता उसे

दर दर भटकता रहता

उसे दर नहीं मिलता,

उस मोहल्ले में लाखों घर हैं

लेकिन उसे घर नहीं मिलता!!

उन तरसती आँखों में मैंने आस देखी है,

उसकी वफादारी कुछ ख़ास देखी हे!!

काश मैं उसे अपना सकती,

अपने किराए के कमरे में ला सकती!!

जब भी बालकनी पे जाती हूँ,

उसकी तरसती आँखों में

प्यार ही प्यार पाती हूँ!!

भले ही है एक गली का कुत्ता वो,

लेकिन सबका दिल रखता है,

जाओ बताओ इन लोगों को

की वो भी एक दिल रखता है!!



Rate this content
Log in