Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Akhtar Ali Shah

Others


5.0  

Akhtar Ali Shah

Others


बंटे हुए दीवारों में

बंटे हुए दीवारों में

1 min 239 1 min 239

रिश्तों की मिठास नहीं अब,

पाते हैं परिवारों में ।

खंडित है परिवार आज सब,

बंटे हुए दीवारों में ।।


सम्बंधों की डोर मखमली,

आज विषेली डोरी है ।

कहाँ रहे संयुक्त कुटुम्ब अब,

दादी की गुम लोरी है ।।

चाची ताई नहीं दिखती ,

है घर के गलियारों में ।

खंडित से परिवार आज सब,

बंटे हुए दीवारों में ।।


एक ही घर में सदस्य संख्या,

देखी है सौ से ऊपर।

भले नहीं पक्के मकान हों,

सजे धजे रहते छप्पर।।

कौन मिलाता नजरे उनसे ,

गिनती थी सरदारों में ।।

खंडित है परिवार आज सब,

बंटे हुए दीवारों में ।।


करवट देखो समय ले चुका,

मतलब के सब बंदे है

त्याग भावना दफन हो गई ,

लगे मोह के फंदे है ।

डाका डाल रहे है हक पर,

बैचेनी हकदारों में ।।

खंडित है परिवार आज सब,

बंटे हुए दीवारों में  ।।


कांपा करते थे तन मन सब,

दादा की ललकारों से।

छिपा लिया करती थी ताई,

ताया के हर वारों से ।।

संबल देता था चाचा का,

प्यार बहुत अंगारों में ।

खंडित है परिवार आज सब,

बंटे हुए दीवारों में ।।


खूब झगड़ते थे बच्चे पर,

बच्चे नहीं पराए थे।

रिश्ते में कुछ भी लगते हो।

लगते अपने जाए थे ।।

हर नारी में ममता बैठी ,

थी "अनन्त" व्यवहारों में ।

खंडित है परिवार आज सब,

बंटे हुए दीवारों में ।।


Rate this content
Log in