Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
भगवान् नहीं दिखे
भगवान् नहीं दिखे
★★★★★

© Pradeep Soni प्रदीप सोनी

Others

4 Minutes   668    58


Content Ranking

इस बात को तक़रीबन 10 साल गुजर चले है मगर आज भी जब ये किस्सा याद करता हूँ तो आँखों में चमक और होठो पर हँसी लहर सी जातीहे।

वो शनिवार की दोपहर में सचिन ने एकाएक बुलाया और कहाआज खाटू श्याम जी के चले क्या..?” हम चाचा – ताऊ के बालको का गुट अगले आधे घंटे में तैयार था, निकलने से पहले 10 मिनट में यात्रा का सारा खांचा तैयार हो गया और खाने पीने का माल बिस्कुट भुजिया इकठा कर लिया गया. निकलते निकलते वक्त शाम के 5 का हो चला था और 5 :30 होते होते हम विचित्र प्राणियों से भरी हुई मारुती 800 दिल्ली से खाटू शाम जाने वाले हाईवे पर पूर्ण रफ़्तार से चल रहीथी।

ये वाक्या मेरे जेहन में इसलिए भी ज्यादा घर करता है क्यूंकि घर वालो की अनुपस्थिति में ये मेरे जीवन की पहली यात्रा थी तो मैं काफी खुश और रोमांचित महसूस कर रहा था ,राजस्थान में घुसते ही एक शानदार ढाबे पर गाड़ी लगी और हम लोग खाने पर टूट पड़े इतना तो ध्यान है की पेट फटने तक खाना खाया था।

लम्बी दूरी होने के कारण हमारे फर्नान्डो अलोंसो (सचिन) और माइकेल शुमाकर (कालू) स्टीयरिंग बदल बदल के गाड़ी चला रहे थे। गाड़ी में बजते गाने और फटी हुई आवाज में पीछे पीछे गाते हम, ढलता सूरज, ख़ाली सड़के और हवा में उठती मिट्टी की भीनीं भीनी खुशबु सब कुछ तो था इस सफ़र में यादगार बनाने लायक।

एकाएक हमारी गाड़ी एक पेड़ के पास रूकती है और अगले ही क्षण हम लोग हाथ में पत्थर लिए पेड़ पर लगे आम पर निशाना लगा रहे थे, अपने निशानों में असफल हम लोग कोशिश कर ही रहे थे की दूर से रजिस्थानी पगड़ी पहने हाथ में लट्ठ लिए आता बड़ी बड़ी ताऊ गाली उच्चारण करता हुआ आ रहा था...तुम्हारी माँ की....तुम्हारी बहन की .....ये देख हम लोग तुरंत सेकंड के हिसाब से गाड़ी में पैक होकर स्टीयरिंग घुमा दिए और निक लिये।

खाटू श्याम पहुँचते -पहुँचते अब रात हो गयी और हमारा सफ़र भी धर्मशाला पहुँच कर आ थमा था ,धर्मशाला में होते भगवान् के मधुर भजन सुनकर आनंद आ रहे थे और भजन पूर्ण होने के बाद हम लोग अपने कमरे में गए आधे घंटे हद मजाक किया और थक हार कर सो गए।

भोर के चार हो चुके थे और कोई भी उठ कर राजी नहीं और आज तो वैसे भी पूजा का विशेष दिन होने के कारण भीड़ भी हद से ज्यादा होने की सम्भावना. इसलिए मौके की नजाकत को समझते हुए हम लोगो ने उठ कर नहाना धोना ख़तम किया और 5 बजे तक मंदिर की लाइन में जा पहुंचे।

जल्दी चलने के कारण हम लोग लाइन में काफी आगे थे और पीछे हर सेकंड लाइन में सेकड़ो लोग जुड़ते चले गए, और भक्तों की लाइन किलोमीटर की होती जा रही थी, अब वो क्षण आ चूका था जिसके लिए हम घर से इतना दूर आये ,अब हम लोग भगवान् जी के समक्ष खड़े थे और पीछे से धक्के मरते लोग और आगे से पकड़ कर खीचते पंडित जी के बीच का जो समय था उसमे भगवान् से क्षमा याचना की और बेहतर भविष्य की दुआएं की गयी, और कुछ ही सेकंड में हम लोग समंदर में बहते तिनके की तरह भीड़ मे बह कर बहार आ पहुंचे।

दर्शन के बाद अब राजस्थान की मशहूर कढ़ी कचोरी चल रही थी और अपने दर्शान के बारे में बतला रहे थे कोई कह रहा “बहुत बढ़िया दर्शन हुए” तो कोई कह रहा “जल्दी जल्दी में दर्शन हुए” और सबआई और गोलू तेरे कैसे दर्शन हुए...? गोलू कुछ सेकों ठहरा और बोला भाई मेरा चश्मा कार में ही रह गया था मुझे तो भगवान् ही ना दिखा”

ये सुनते ही हम सब लोगो में हँसी फट पड़ी और कालू के तो बिचारे के कढ़ी भी नाक से निकल आई हँसी के मारे।

आज भी जब ये वाक्या याद करता हूँ तो मुस्कान अपने आप होठों पर छा जाती है ,और एक बात ये भी कहना चाहता हूँ की इंसान के जीवन की असली कमाई बेहतरीन यादे ही होती है, जिसे याद करके इंसान हस लेता है चाहे वो जीवन का कोई भी दौर हो ,इसीलिए दोस्तों किसी को कुछ देना हो तो अपना वक़्त दीजिये और यादे दीजिये ताकि आप रहे ना रहे मगर आपकी याद उस आदमी के जीवन में सदा बनी रहे।

यादें परिवार दर्शन

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..