Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
उम्मीद  किससे लगायें
उम्मीद किससे लगायें
★★★★★

© Ravikant Raut

Others

1 Minutes   20.2K    5


Content Ranking

उम्मीद  किससे लगायें 

समझती क्यूं नहीं,पत्थरों पर सर पटकती

साहिल पे,निढाल होती  लहरें,

समझती क्यूं नहीं

पत्थरों पर सर पटकती

साहिल पे

निढाल होती  लहरें,

कि व्यवस्थायें ढीठ हैं,

बदल पायेंगे  कुछ,

कोशिशें अब नाक़ाम हैं

 

 

कांधे पे ज़नाज़ा उठाये,

पिता अभागा,

बेज़ुबान था,

नशे की क़ैद से,

ऐसे छूटा, बेटा उसका

कैसा नादान था

बुढ़ापे का सहारा बनता

ख़्वाहिशें अब नाकाम है ॥

 

ताजी तरकारी ,सिर पर

नयी उम्मीद का टोकना *

कुछ और  कर ले पगली

टपकती लार

और जमाने का टोकना

घात लगाये, बाज़ों की 

कोशिशें कब नाक़ाम हैं

 

बढ़ती उम्र, मायने अलग

सामने जगह पाती ,

पुरानी होती शराब .

पिछ्वाड़े से भी पीछे

धकेला जाता, बूढ़ा बाप ,

और पुराना असबाब

हमारी फ़रहत-बक्श**

परवरिशें अब नाकाम हैं ॥

 

कुछ तो है कम, ज़िंदगी में

पर खुलता नहीं ये राज़

ख़्वाहिशों को पर लगे हैं

और कोशिशें नाकाम हैं ||

 

(*टोकना = बांस की बड़ी टोकरी  , **फ़रहत-बक्श = सफल और समृध्द )

 

RAVIKANT RAUT POETRY POEM HINDI

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..