Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ख़ामोशी
ख़ामोशी
★★★★★

© Nikhil Sharma

Others

1 Minutes   1.2K    7


Content Ranking

गुमनाम एहसासों की एक दास्ताँ होती है
हर अंदाज़-ए- बयां की एक कशिश होती है
दिल जब किसी का ऐतबार करने लगे
तो ख़ामोशी भी एक जुबां होती है

कोई खुद को तन्हा समझता है 
कोई हर वीराने को महफ़िल समझता है
जो आँखे कहती हैं उस एहसास को बस एक दिल समझता है
जब अनकही उलझनों में कोई साथ देने लगे
उस साथ की भी ख़ामोशी ज़ुबां होती है

जब दो इशक़ज़ादे एक दूजे से मिलते हैं 
तो ना लफ्ज़ होते हैं, ना साज़ होते हैं
फिर भी दिल के तार मिलते हैं
उन जुड़े दिलो से जब सरगम बनने लगे 
उस सरगम की रूह भी ख़ामोशी होती है

बिन कहे हर एहसास को कहा जा सकता है
बस जज़्बातों की एह्मियत होती है 
कब बच्चा माँ से दर्द का इज़हार करता है 
कब खुदा से कोई दीदार करता है
ख़ामोशी की ज़ुबां से ही तो हर रिश्ता चहकता है

izhaar dard khamoshi dil

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..