Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
 ग़ज़ल 7
ग़ज़ल 7
★★★★★

© Devmani Pandey

Others Inspirational

1 Minutes   6.8K    1


Content Ranking

वक़्त के साँचे में ढलकर हम लचीले हो गए,
रफ़्ता-रफ़्ता ज़िंदगी के पेंच ढीले हो गए।

इस तरक़्क़ी से भला क्या फ़ायदा हमको हुआ,
प्यास तो कुछ बुझ न पाई होंठ गीले हो गए।

जी हुज़ूरी की सभी को इस क़दर आदत पड़ी,
जो थे परवत कल तलक वो आज टीले हो गए।

क्या हुआ क्यूँ घर किसी का आ गया फुटपाथ पर,
शायद  उनकी लाडली के हाथ पीले हो गए।

आपके बर्ताव में थी सादगी पहले बहुत,
जब ज़रा शोहरत मिली तेवर नुकीले हो गए।

हक़ बयानी की हमें क़ीमत अदा करनी पड़ी,
हमने जब सच कह दिया वो लाल-पीले हो गए।

हो मुख़ालिफ़ वक़्त तो मिट जाता है नामो-निशां,
इक महाभारत में गुम कितने क़बीले हो गए।

#poetry# hindipoetry

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..