Vineeta Dhiman

Others


2  

Vineeta Dhiman

Others


प्यार के दो मीठे बोल

प्यार के दो मीठे बोल

3 mins 205 3 mins 205

हाय राम, "भारत से ये कोरोना वायरस कब जाएगा?" घर में रहते रहते मैं तो पक गया। रोज़ दाल रोटी खा खाकर मेरे मुंह का स्वाद ही बेकार हो गया है....सूरज खुद से बात कर रहा था! तभी अंजली ने आकर कहा अरे, "आप तो उठ गए कहो तो चाय बनाकर लाऊं" हाँ यार बना दो और पकौड़े भी बना दो। थोड़ी भूख लग रही है। आप बच्चों को उठा लीजिए मैं चाय पकौड़े ले आती हूँ। थोड़ी देर बाद अंजली गरमा गरम पकौड़े और चाय ले आयी और रवि से बोली क्या बात है आज आपने दोपहर में खाना सही ढंग से नहीं खाया। जो 4 बजे ही आपको फिर से भूख लग आयी। शायद आपको मेरी हाथ की बनी दाल पसंद नहीं आई, आप तो अभी से बोर हो गए...अभी तो सिर्फ 5 दिन हुए है। अभी तो पूरे 16 दिन बाकी है। तब क्या होगा आपका? सूरज सारा दिन तो आप ऑफ़िस का काम करते हो, बच्चे और घर का सारा काम तो मुझे करना पड़ता है। ऊपर से आपके ड्रामे की आज मैं ये नहीं खाऊंगा, मुझे परेशान मत करो, बच्चों को चुप रखो,TV की आवाज़ कम रखो। इस कोरोना से ज्यादा तो आपने मुझे परेशान कर दिया है। अब आप मुझ पर ज्यादा गुस्सा करते हो, प्यार के दो मीठे बोल तो बोलते नही सिर्फ लड़ाई करते रहते हो।

सूरज को अंजली की बात सुनकर लगा कि सच में अब सूरज अंजली के साथ वैसा व्यवहार नहीं करता जैसे वो रोज दिन भर ऑफ़िस में काम करने के बाद शाम को घर आने के बाद अपनी पत्नी से करता था। बच्चों के साथ खेलना, बैठना, बात करना, अंजली को घर के काम में मदद करना लेकिन अब तो उसने इस lock Down के दिनों को अपने और अपने परिवार के लिए मुसीबत बना लिया है। यदि मैं चाहूं तो इस मुश्किल समय को भी खूबसूरत बना सकता हूँ।फिर क्या था सूरज ने फैसला किया कि आज से, अब से वो अपनी पत्नी के साथ मिलकर घर के कामों में मदद करेगा, अपने आप बच्चों के साथ खेलना, मस्ती करना, मूवी देखना आदि सभी कामों को करेगा जिससे इस विकट परिस्थितियों में भी अपने परिवार के साथ खुश रह सके और एक दिन इस कोरोना को हराकर फिर से अपने घर से बाहर जा सकेंगे। अरे, आप क्या सोच रहे हो? चाय ठंडी हो रही आपकी। अंजली ने सूरज के कंधे को हिलाकर कर कहा तभी सूरज ने उसका हाथ पकड़ा और कहा डार्लिंग आज रात का खाना मैं बनाऊंगा अब से हम दोनों मिलकर इस lockdown को अपने यादगार दिन बना देंगे। अब से तुम मुझ से सिर्फ प्यार के दो मीठे बोल ही सुनोगी कहते हुए सुरज ने उसके गाल पर अपना हाथ रख दिया...अंजली ने भी अपनी आँखों को झुका लिया।


दोस्तों, आप सब भी इस lockdown को अपने परिवार के साथ हँसते गुनगुनाते हुए जी लीजिए ये समय, इतनी सारी छुट्टियों का आनंद ले लीजिए। खुश रहे सुरक्षित रहे.... 



Rate this content
Log in