Vineeta Dhiman

Others


3.5  

Vineeta Dhiman

Others


देखना, एक दिन लड़को की लाइन लग

देखना, एक दिन लड़को की लाइन लग

2 mins 98 2 mins 98

अरे उषा, क्या तुम सारा दिन अपने कमरे में बैठ कर पढ़ती रहती हो? इतना पढ़कर क्या करोगी? दादी ने गुस्से में अपनी पोती उषा से कहा... दादी आप भी न जब आपको पता है कि मुझे IAS का एग्जाम देना है, तो इसके लिए मुझे पढ़ना होगा और मेहनत करूंगी। तभी तो एक दिन IAS बनूंगी। अब तुझे कौन समझाए? न तुझे समझ आता है, ना ही तेरे पिता को। जब देखो दोनो बाप बेटी लग जाते हो मुझे समझाने... दादी ने गुस्से से कहा। 

अब तू 30 बरस की हो गयी है। मेरी तो 18 में ही शादी हो गयी थी, तेरी उम्र में मैं जब थी तो मेरे चार बच्चे हो गए थे और तेरी माँ के तू पैदा हो गयी थी लेकिन मेरा सुनना किसी ने नहीं है सबको अपनी मनमानी करनी है। 

दादी का गुस्सा बढ़ता हुआ देख उषा ने वहाँ से चले जाना ही ठीक समझा... 

सुमन, "देख ले तेरी छोरी को गुस्सा तो इसकी नाक पर रहता है।" एक तो उम्र बढ़ती जा रही है। मुझे तो इसकी शादी की चिंता है कि इसके लिए कोई लड़का नहीं मिलेगा। अभी तो रिश्ते आ रहे है तो तुम दोनों मियां बीवी किसी को हां नहीं कर रहे और मैंने इतना का कह दिया कि मुँह फूलाकर चल पड़ी। 

मम्मी जी आप भी ना हमेशा शुरू हो जाती हो उसको टोकने में....एक दिन तो शादी हो ही जाएगी। अब आपका और मेरा जमाना नहीं है कि माता पिता लड़की की पढ़ाई रूकवाकर उसकी शादी कर देते थे। अब समय बदल गया है अब लड़कियों को भी पूरी आज़ादी है अपने पढ़ाई करने, नौकरी करने और शादी करने की। माना हमारी बेटी की उम्र शादी लायक हो गयी है लेकिन उसकी इच्छा है कि वो IAS का एग्जाम दे तो हम दोनों भी उसके साथ है। जब हमारी उषा आईएएस बन जायेगी तब आप देख लेना, "एक दिन लड़कों की लाइन लग जायेगी।" तब आप ही पसंद कर लेना अपनी पोती के लिए मनचाहा वर...सुमन ने अपनी सास से कहा। सुमन बहू अब तुम भी मेरे बेटे की तरह बोलने लगी अब तो तुम सब जीते मैं हार गयी।


आप भी अपने बच्चों के सपने को अपना सपना बना लो...उनका साथ दीजिए। अभी इस लॉक डाउन के समय अपने बच्चों की बात सुनिये, उनके साथ समय बिताइए तो हम सब इस कोरोना को हरा देंगे....


Rate this content
Log in