Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Akhtar Ali Shah

Others

5.0  

Akhtar Ali Shah

Others

वक्त गया तो

वक्त गया तो

2 mins
280


कद्र वक़्त की कर ले, मौज उड़ाएगा ।

वक्त गया तो हाथ, नहीं फिर आएगा।।


कल कर लेगा, ऐसी कसमे खाए मत,

नाहक तू, अपने को यूँ बहलाए मत ।

बचपन बदल गया है, आज जवानी में ,

कल होगा बूढा, अशक्त इठलाए मत ।।

देह पिंजरे की, अपनी सीमाएं हैं,

प्राणों का पंछी, एक दिन उड जाएगा।

वक्त गया तो, हाथ नहीं फिर आएगा ।।


कल जैसा भी बीत गया, क्यों सोचें हम,

कल कैसा होगा, क्यों पालें उसका गम ।

दोनों कल पर जोर, नहीं है जब अपना,

क्यों न जीवन आज बनाएं, हम अनुपम ।।

चारागर की हमदर्दी, हो कितनी ही,

चूक गया जो तेल, दीप बुझ जाएगा ।

वक्त गया तो, हाथ नहीं फिर आएगा ।।


बीता कल तो, हमे बहुत सिखलाता है,

जो ना सीखे उससे, वो पछताता है ।

लेकिन आज, आज है उसको ना भूलें,

क्योंकि अपने कल को ये उजलाता है ।।

लेकिन वो उजला कल क्या भोगेंगे हम,

कौन यहाँ इसका अनुमान लगाएगा ।

वक्त गया तो हाथ नहीं फिर आएगा ।।


जो है परे उसी से, नेह लगाते हैं,

स्वर्ग यहां दुनिया में, लोग बनाते हैं ।

लेकिन दरवाजे में, घुसने से पहले,

लेकर लंबा मौन, यहाँ सो जाते हैं ।।

सत्ताधीश अकेला ही है दुनिया में,

सत्ता में क्या दखल, उसे ये भाएगा।

वक्त गया तो, हाथ नहीं फिर आएगा।।


जीवन तीन खंड की एक इमारत है,

कल आज और कल में बँटी हुई छत है।

मगर तीसरी छत के बारे में कहते,

पढ़ी न जाए ऐसी लिखी इबारत है ।।

रब से नाता रखने वाले पार गये,

निर्मोही ये समय सदा कहलाएगा ।

वक्त गया तो, हाथ नहीं फिर आता है।।


अपनी संपत्ति अपने काम न आए तो,

किस मतलब की झगड़े अगर कराए तो।

जो हमने उपयोग किया वो अपना है,

हमे कोई ये सच्चाई समझाए तो ।।

"अनंत" अपना आज संवारे माने हम,

माया ममता बोझा है, बहकाएगा ।

वक्त गया तो हाथ नहीं फिर आएगा ।।


Rate this content
Log in