Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Nisha Nandini Bhartiya

Others


5.0  

Nisha Nandini Bhartiya

Others


तार पर टिकी बूंदें

तार पर टिकी बूंदें

1 min 423 1 min 423

बिजली के तार पर टिकी

पानी की बूंदें 

देखते ही मुझे  

अचानक बोल उठी 


मत समझना पकड़ लिया है 

बिजली के तार ने हमें 

हम तो कर देते हैं 

तार को भी ठंडा


खुशी से आनंद ले रहे हैं हम 

नीचे गिरने का डर जरूर है 

नीचे गिरते ही 

धरती द्वारा पी ली जाऊँगी 


फिर होगा हमारी कष्ट भरी 

यात्रा का आरंभ 

वृक्ष की जड़ में समाकर 

फिर कभी धीरे से 

तने के सहारे 

पत्तों पर आकर 


या तो सूरज द्वारा 

निगल ली जाऊंगी

या राह चलते 

तुम्हारे ऊपर टपक जाऊँगी 


फिर से यात्रा पर निकल 

कष्ट सहूँगी

हम दे रहे हैं चेतावनी 

अगर है हिम्मत तो 

हम पर करो आघात 


क्यों करते हो ?

निरीह लोगों पर चोट 

कल की बात है

ललन तुम्हारे तार से चिपक 

दे बैठा अपनी जान


हम देखने में छोटी 

पर हिम्मत से बड़ी हैं

हम तो स्वेच्छा से 

तुम्हारे झूले पर टिकी हैं।


Rate this content
Log in