Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

कुमार संदीप

Others


4.9  

कुमार संदीप

Others


पिता

पिता

1 min 465 1 min 465

पिता वो दुःख की पीड़ा से ग्रसित महान पुरुष हैं

जिसके चेहरे पर दुख होते हुए भी खुशी दिखाना

उनकी पहचान है।

पिता वो खजाना है, जिनके खजाने में असीमित

ख़ुशियाँ लाल के लिए समर्पित होती हैं।

पिता वो अनमोल रत्न हैं, जिनकी तुलना करना

किसी कलमकार की कलम से संभव नहीं है।


पिता वो महान पुरुष हैं, जिनकी मौजूदगी ही घर

में चार चाँद लगाती है।

पिता वो जादूगर हैं, जो अपनी जादू की छड़ी से

अपने लाल के तमाम दुखों को पल में दूर कर

देते हैं।

पिता वो पीड़ित इंसान है, जिनकी पीड़ा का

एहसास उन्हें स्वयं नहीं होता।


पिता वो नीर हैं, जिनकी एक बूँद का स्पर्श होने

मात्र से ही औलाद का जीवन सँवर जाता है।

पिता वो अनमोल रत्न है, जिनके न होने की पीड़ा

आपको तब समझ आएँगी जब उनकी कुर्सी घर

में आप रिक्त पाएँगे।


पिता वो कोहिनूर है, जिनकी अहमियत का पता

लगाना हो, तो पूछो उस पुत्र से जिसने अपने पिता

को खोया है।



Rate this content
Log in