Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

क्षणिक संवेदनाएं

क्षणिक संवेदनाएं

1 min 360 1 min 360

मेरी संवेदनाओं का सैलाब,

और, मेरे भीतर का आक्रोश,

जागता है, हर रोज..

पर अफसोस,

कि सुबह मेरे उठने के घंटों बाद


और, शाम होते होते 

बेसुध हो, 

नशे मे, लुढ़क जाता है चारपाई के नीचे,

मेरे सोने से घंटों पहले ही !!


दरअसल,

ये जो 'मैं' हूँ,

यही 'तुम' भी हो ।


तो आओ, मिलकर, 

भीड़ के शिकार के साथ

एक और सेल्फी खिंचाते हैं,

तो आओ, 

सड़क पर तड़पते बूढ़े को छोड़,

सीरिया पर आसूँ बहाते हैं,

तो आओ, 

कलम, कागज पर घिस के,

सामूहिक चेतना जगाते हैं ??


Rate this content
Log in