Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Pawanesh Thakurathi

Others


1  

Pawanesh Thakurathi

Others


दो हमसफर

दो हमसफर

1 min 94 1 min 94

जीवन की राह पर

जब-जब गिरता हूँ

तब पिता की कही बातें 

याद करता हूँ


जब चलते-चलते

थक जाता हूँ

तब माँ के हाथ-पैरों को

याद करता हूँ


सच कहूँ तो

माँ और पिता

दोनों

मेरे साथ-साथ चलते हैं। 


Rate this content
Log in