Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

बरसो मेघा रे

बरसो मेघा रे

1 min 298 1 min 298

सुखी है धरा

बरसो रे ओ मेघा

कर दो हरा


सूखे है ताल

कर दो हरियाली

भूखे हैं बाल


वन पुकारे

बढ़ता रेगिस्तान

जन हुँकारे


न तरसाओ

उमड़-घुमड़ के

बरस जाओ


तृषित तन

बरसो काले मेघा

हर्षित मन



Rate this content
Log in