Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Rashid Akela

Others

4  

Rashid Akela

Others

अपने हिंदुस्तान में

अपने हिंदुस्तान में

1 min
33


संभाल ना सको तो मत पकड़ना 15 अगस्त को तिरंगा अपने हिंदुस्तान में। 

राष्ट्र-ध्वज का अपमान बर्दास्त नहीं संविधान में।। 

========================================

आँच न आने दी कभी हिन्द की आन में। 

जाने कितने वीर शहीद हुए इस तिरंगे की शान में।। 

========================================

सरफ़रोशी की तमन्ना जागी थी आवाम -ए-तमाम में। 

बच्चा-बच्चा बना था क्रन्तिकारी अपने हिंदुस्तान में।। 

========================================

तिरंगा बना था कफ़न उनके सम्मान में। 

लहू आया था जिनका वतन के काम में।। 

========================================

दुश्मन की छाती पे लहरता रहा तिरंगा हिंदुस्तान में। 

आँखे निकल दी, डाली जिसने बुरी नजर हिंदुस्तान में।। 

========================================

लाशों पे लाशें गिरती रही तिरंगे के सम्मान में।

अकेला की आँखे आज भी नम है शहीदों के बलिदान में।। 

========================================

बो दे नफ़रत का ज़हर दम ना था अंग्रेजी फ़रमान में। 

हिन्दू, मुस्लमां, सिख, ईसाई तब सब एक थे सरजमीं हिंदुस्तान में।। 

========================================

तुमने तो रंगों को भी ज़ात मज़हब में बाँट दिया शियाशी गुमान में।

राष्ट्रध्वज भी नया बनाओगे क्या अब फिर से हिंदुस्तान में।। 

========================================

जाने कितने भगतसिंह असफाकउल्लाह सूली चढ़े आजादी के इस इम्तेहान में। 

तब जाके कहीं मिली है आजादी अपने हिंदुस्तान में।। 

========================================

मज़हब की दीवार अब तो गिरा दो शहीदों के सम्मान में। 

लहरा दो 15 अगस्त को तिरंगा पूरे हिंदुस्तान में।।

========================================

                           


Rate this content
Log in