Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Arpan Kumar   AUTHOR OF THE YEAR 2019 - NOMINEE

  Literary Brigadier

सुख के गुब्बारे में

Romance

बचा रहे ढीठता का चुटकी भर नमक लज्जा के अंतहीन समुद्र में बचा रहे ऋतुओं में थोड़ा-सा

1    1 0

मेरी आँखों में बसंत

Others

मेरी आँखों का बसंत

1    1 0

पुरुषत्व

Abstract

वह नदी मेरी कविता में तभी से।

1    0 0

तलाश

Abstract

नहीं ढूँढ़ सकता एक नदी लाख कोशिशों के बाद भी।

1    1 0

पुरुषार्थ और समर्पण

Abstract

और शायद तभी नदी बन पाती है कविता भी।

1    21 1

रुदन

Others

एक भारी-भरकम वज़ूद को भारहीन कर खो जाता है

1    41 2

विदा!

Others

कहा — ‘विदा’ एक दिन नदी ने तरेर कर अपनी आँखें, और मेरी उँगलियों से चुम्बक की तरह चि

1    0 0

मिलाप

Others

काँपती थी अपने ही लावण्य से

1    0 0

प्रेयसी की आँखों में

Romance

धरा पर कहीं बाद में प्रेयसी की आँखों में वसंत पहले उतरता है।

1    1 0

वसंत पंचमी पर लड़कियाँ

Abstract

सिर धूनता वह रास्ता भी अब वह रास्ता कहाँ रहा !

2    24 1

कुसुमायुध

Others

दर्द जो क़िस्मत से क़िस्मत वालों को नसीब होता है।

1    8 0

'दिल्ली में ओरछा के गुलाब'

Abstract

चीरते हुए खिलना है ज्यों प्रेम और विश्वास की किरणों का।

1    23 1

ऋतुओं में मैं वसंत हूँ !

Abstract Children Stories

कुरुक्षेत्र का सुदीर्घ मैदान सरसों के पीले फूलों से लदा हुआ।

1    12 0

हे मेरी मानिनी !

Abstract

आँच देने देखो ना ये फ़रवरी के जलवे लाजवाब है।

1    22 1

सफलता का साइलेंस

Drama

सफलता का भूत जब सिर चढ़कर नाचता है तो व्यक्ति सबसे पहले उस जगह से उठता है जहाँ से उठने की उसकी यात्रा...

2    6.7K 7

'फगुनिया'

Tragedy

उसकी कृशकाय काया बड़े-बड़ों की माया तले , दब जाती है, बार बार खींच साँस अंदर, वह रह रह जाती है..अपनी ...

4    13.6K 17

उड़नछू

Romance

प्रेम क्या है और इसकी टीस कैसी होती है क्या ख़ालिस स्मृति है प्रेम या वर्तमान से कोई विस्मृति ह...

4    7.0K 11

व्हाट्स अप डीपी

Romance

पास की पटरी से, ट्रेन के गुज़रने की आवाज आती है, मन तो बावरा है कहाँ से कहाँ की सोच लेता है......

2    7.2K 8

सपने में सौत

Romance

प्रेम के कई रंग है वो कमज़ोर बनता है तो मज़बूत भी बना देता है

2    7.1K 9

पहाड़ी नौनी के लिए एक विदा गीत

Inspirational

समुद्र के तट पर उसे सीखने ही होंग तैराकी के कई गुर

2    13.2K 7

'सेब खाता बेटा'

Inspirational

भविष्य के किसी अप्रिय अंदेशे मात्र से क्षण-विशेष की इस नैसर्गिक, लहलहाती ख़ुशी पर डपट भरे अपने किस...

3    13.5K 8

गोन्दपुरा

Others Abstract Inspirational

गाँव अपना गोन्दपुरा है , झरने का पानी गुनगुना है

2    7.0K 8

'डर'

Abstract Others Romance

'समय के साथऔर कई बार समय से पहले भी कई सुंदर चीजें नष्ट होती हैं'

2    12.9K 5

'शाम'

Abstract Others Romance

क्या कहते हो आराम हराम है!

1    6.8K 5

'यह जो कल्पना है'

Abstract Others Romance

तुम चुपके से मेरे पास चली आती हो, सजनी हो या हो कि कल्पना।

2    13.4K 5

जीवन से क्या क्या.

Abstract Others Inspirational

ख़ुद तक क्यों हो सिमटते संसार मात्र को अपना जानो

1    6.9K 5

आप जो माने हुज़ूर

Abstract Others Inspirational

आप भी ज़रा ध्यान रखें मुझे मुँह न खोलना पड़े कहीं।  

1    13.9K 5

'यह जो माँ होती है'

Others Abstract Inspirational

'यह जो माँ होती है'

1    6.9K 3

थोड़ा नहीं है

Inspirational Romance

छोटी-छोटी चीज़ें हमें कई बार बड़ी-बड़ी खुशियों से भर देती हैं। 

1    7.0K 8

जीवन हरे से भरा है

Fantasy Comedy Others

विश्वास और प्रेम की युगलबंदी...

2    13.5K 2

रंग

Abstract Others Inspirational

रंग को मात्र रंग रहने दो।

2    6.9K 5

'बोझ'

Others Inspirational Comedy

बोझ को अगर हल्का करना है तो उससे दोस्ती कर लो।

1    12.9K 2

वक़्त जिसे कहते हैं

Abstract Others Inspirational

कोई पूछे तो सही भला यह वक़्त क्या है!कोई बताए तो सही कि इसकी तपिश क्या है!

2    13.8K 6

दिल्ली में जहानाबाद

Abstract Others Inspirational

कभी मानव-नरसंहारों के लिए विख्यात जहानाबाद पर लिखी एक आत्मपरक कविता। 

2    14.3K 8

थोड़ा नहीं है

Comedy Abstract Others

कम हरदम कमतर नहीं होता। 

1    13.4K 4

धृष्टता

Abstract Others Inspirational

आज भी कई जगह, शिक्षा एक विलासिता है। 

1    13.5K 6

तितली

Fantasy Comedy Others

तितली, मेरी पहली प्रेमिका। 

1    7.3K 9

कभी-कभार

Romance

प्यार का क्या है!

1    13.0K 10

'समंदर का कहर'

Abstract Others Inspirational

सुनामी सब कुछ सूना कर जाती है।

1    6.7K 8

स्वीकार

Abstract Others Inspirational

'किसी को और ख़ासकर अपने विरोधियों को स्वीकार करने से बड़ा कोई और मूल्य नहीं हो सकता है।'

2    13.7K 4

लावण्य की मिठास

Romance

प्रेम का ख़याल प्रेम से भी बड़ा और आकर्षक होता है।  

2    13.7K 7

तिल

Romance

प्रेम का ख़याल, प्रेम से भी बड़ा होता है।

3    13.3K 2

मैं सड़क हूँ

Inspirational Comedy

तुम जिसे अपनी सफलता कहते हो और जिसका बखान करते थकते नहीं हो दरअसल वह तुम्हारा बेरंग और निष्ठुर होना ...

2    14.3K 4

पता

Inspirational Comedy

एक लापते से उसका पता पूछना!

2    14.1K 3

सभी तुम हो

Romance

"आवेग...दृष्टि... दिशा, इतिहास, सभी तुम हो" (इसी कविता से)

1    6.8K 1

स्त्री-द्वैत

Others Inspirational

  दुःख और सुख की यह आँखमिचौली एक स्त्री के भीतर कहीं दूर तक अपना सुरंग रचती चली आ रही  है जाने कितनी...

2    7.1K 6

धूप

Inspirational

धूप हमें सख्त बनाती है। हर प्रतिकूल परिस्थिति  के लिए हमें तैयार करती है।

1    6.7K 4

ट्रैक्टर

Others Inspirational Comedy

ट्रैक्टर के बहाने मनुष्य की यांत्रिकता पर कुछ सवाल...

2    7.1K 7

रीढ़

Romance

किसी कोण किसी दिशा से देखो पूरी दिखती है नदी।

1    12.7K 4

तृष्णा

Inspirational Romance

जानते हुए अनजान रहना

1    13.2K 5

नदी अनजान नहीं थी

Fantasy Others Inspirational

प्रेम में पशोपेश...

1    13.8K 4

प्रतिरूप-प्रेम

Others Inspirational Romance

प्रेम की विराटता...

1    13.3K 2

पेच-ओ-ख़म

Fantasy Others Inspirational

स्त्री-नदी के प्यार में... 

1    6.9K 6

नदी

Fantasy Comedy Others

नदी सूख रही है अपनी बढ़ती उम्र की छोटी-बड़ी परेशानियों को वहन करती हुई नदी सूख रही है

1    13.4K 1

खूँटी

Others Inspirational Comedy

जीवन के उच्चावच को अभिव्यक्त करती कविता। 

1    6.7K 7

गुमान था...

Others Inspirational

यथार्थ का आईना दिखाती एक कविता।

1    14.1K 7

पिता के कंधे से लगकर

Fantasy Comedy Others

पिता अमूल्य हैं।

1    12.9K 5

आँखें

Fantasy Romance

आँखें, जब किसी की पानी से भरी हुई परातें बन जाएं...

2    13.6K 9

पसरता अँधेरा

Others Comedy

रोशनी को सबसे अधिक ख़तरा उनसे है, जिन्हें अँधेरे से प्यार है।

2    13.9K 4

मौत की आहट

Others

"और शरीर की नश्वरता जीत जाती है आखिरकार अमरता की हमारी दबी-छिपी शाश्वत आकांक्षा से"  

2    6.8K 6

दिल्ली

Others Comedy

दिल्ली को प्रतीक बनाकर लिखी गई एक आवश्यक कविता।

1    7.2K 12

दूसरे परिवारों में अपना बनकर

Others

"इस आवाजाही में आ जाते हैं अपने आप कुछ रंग कुछ राग  कविता मैं कहाँ रचता हूँ !"  

1    13.5K 5

तीन बहनें

Others

सहज,उन्मुक्त और मैत्रीपूर्ण रिश्तों की मिठास... 

2    6.8K 5

जयपुर के ‘मोक्ष धाम’ से गुजरते हुए

Others

"मेरे पूर्वज!, ज़रा बतलाना, मैं डरता हूँ, आप दिवंगतों से या, स्वयं के दिवंगत हो जाने से!"            ...

3    13.1K 2

शहर के एक छोर से दूसरे छोर तक

Others

प्रेम में पूरा शहर एक छत बन जाता है

2    7.1K 5

मुझमें मेरा 'देस'

Others

"मेरी तमाम कमजोरियों के बावजूद मेरा देस मुझे दुलारता है मुझमें मेरा देस बसता है"  

2    13.6K 8

धीमी आँच

Others

प्रेम में पकना... धीमी आँच पर।

1    13.3K 4

शासको, तुम हार रहे हो

Others

जनता के समर्थन में हुंकार भरती एक सामाजिक-राजनीतिक कविता...

3    13.8K 3

ट्रेन की खिड़की से

Others

ट्रेन की यात्रा हमें कितना कुछ दिखाती चलती है!

2    7.0K 6

हँसी और हिमनद

Others

एक धाविका से प्रेम की कविता...

4    14.4K 13

बर्तनों का खटराग

Others

"दुनिया के अगर सभी बर्तन मिल जाएं तो हम भूख को हरा सकते हैं"

1    6.7K 5

मेरे दोस्त !

Others

"धरती की तो हमने तकसीम कर ली मगर क्या आसमान को भी हम बाँट पाएँगे"

3    20.2K 3

'आत्मकेंद्रित तुनकमिजाज़'

Others

आत्ममोह से ग्रसित लोगों पर तंज़ कसती कविता...

2    13.5K 4

'यात्रा'

Others

"यात्रा करना, प्रकृति और लोगों से रोमांस करना है"

4    13.7K 7

'नहीं दिया हक़'

Others

"मैंने किसी को नहीं दिया हक़ कि कोई मेरे गले की नाप ले"

3    7.1K 8

'बुआ को सोचते हुए'

Others

हमारे लिए कुछ करने और जीनेवाले के प्रति आभार कितना आवश्यक है! 

1    13.9K 2

तारीख़ों में क़ैद ज़िंदगी

Others

गरीबी के पक्ष में अक्सर कोई गवाह नहीं दिखता। कोई गवाही मायने नहीं रखती।

3    6.6K 5

मैं कुछ नहीं हूँ

Others

"कुछ न होने जैसे इस होने पर तरंगित होना चाहता हूँ" 

3    6.8K 3

बीमारी और उसके बाद

Others

विपरीत परिस्थितियों में प्रकट होते जीवन के वास्तविक रंग...

2    12.9K 4

जागना

Others

जागना सिर्फ क्रिया भर नहीं है!

5    6.6K 7

अनफ्रेंड करना

Others

बनावटी होती दोस्ती...

1    13.6K 3

'बहनापा'

Others

'किसने क्या किया' की भावना से मुक्त रहने का संदेश देती कविता...

1    13.0K 9

'फ्यूज़न'

Others

फ्यूज़न

1    13.3K 7

'अग्निगर्भ'

Others

सफलता-असफलता से बेपरहवाह आगे बढ़ते चले जाने की कविता

1    12.8K 11

'चैती'

Others

ग्राम्य राग-रंग

1    13.6K 2

'आओ'

Others

"आओ कि प्रेम करते हुए कुछ निश्चिंत हुआ जाए"...

1    13.7K 8

सुःख-दुःख तुमसे थे

Others

प्रेम में कविता

1    7.1K 2

अँगीठी बना चेहरा

Others

प्रेम में डूबे होने पर

1    13.8K 13

'भले आदमी!'

Others

ऑफिस में कार्यरत दो निकम्मों को नियंत्रित करने की कहानी...

12    13.8K 5

उपयोगितावाद की महिमा

Others

अवसरों को टोहता अपनापन...

1    6.9K 11

'स्वागत-गीत'

Others

माँ बनकर आई एक स्त्री के लिऐ स्वागत-गान ....

1    6.9K 1

विरोधी दुनियाओं बीच

Others

आदर्श स्थिति कहाँ है! शायद अपनी परिकल्पना में!!

1    6.6K 4

राह चलते

Others

रिश्तों की अजनबीयत...

1    6.9K 5

उज्जैन मुझे माफ़ करना

Others

उज्जैन की सांस्कृतिक सह आत्मीय यात्रा ।

2    7.0K 5

अर्पण कुमार की कविता 'बड़ा बेटा'

Others

अक्सर बड़े बेटे, घर की सीमाओं से बँधे रह जाते हैं।

1    13.5K 2

अर्पण कुमार की कविता 'पुस्तक की दुकान पर'

Others

कई बार हमारी कोई स्मृति हमें असमंजस में ला छोड़ती है

1    13.6K 5

अर्पण कुमार की कविता 'अधजली सिगरेट'

Others

अधजली सिगरेट और अधजला मन 

1    14.3K 7

अर्पण कुमार की कविता 'डर'

Others

डरना ज़रूरी है!

3    13.7K 8

बलात्कार

Others

बलात्कार

1    13.5K 7

चुप्पी

Others

चुप्पी कितना कुछ कहती है!

1    13.8K 4

हस्ताक्षर

Others

पहचान का संकट 

1    7.0K 7

'रात में उदासी'

Others

हमारी नींद और उदासी पर बाज़ार का पहरा 

1    7.1K 10

'स्नान पर्व'

Others

प्रकृति और मनुष्य का साहचर्य

2    13.9K 6

'रतजगे में चाँद'

Others

चाँदनी रात में रतजगा...

2    13.2K 6

'व्यक्ति बनाम तंत्र'

Others

सत्ता-समर्थित व्यक्ति का अन्याय 

1    6.7K 6

अर्पण कुमार की कविता 'हिस्सा'

Others

जब व्यक्ति को उसका हासिल भी न मिले... 

1    1.5K 8

अर्पण कुमार की कविता 'ट्यूटर'

Others

शिक्षक-शिष्य का संबंध...........

1    7.2K 5

नाम में क्या रखा है!

Others

नाम में क्या रखा है!

1    1.2K 5

हारना

Others

हारना हर समय बुरा नहीं होता। 

1    1.3K 10

अर्पण कुमार की कविता 'नींद की तैयारी'

Others

यथार्थ से टकराती कविता...

1    13.4K 7

शिकारी

Others

एक सामाजिक-राजनीतिक कविता...

1    14.4K 7

सुबह की सिहरन

Others

सुबह जीवन की सार्थकता है...

1    6.6K 4

अर्पण कुमार की कविता 'अपना...और क्या'

Others

साहित्य और समाज के समकाल पर एक व्यंग्य कविता।

1    7.0K 7

अर्पण कुमार की कविता 'साया'

Classics

अकेले हो तो अपने अकेलेपन से बात करो....

2    13.6K 6

अर्पण कुमार की कविता 'केंद्र'

Classics

A poem about changing the centres

1    6.4K 8

अर्पण कुमार की 'स्त्री-नदी' कविता श्रृंखला में बारह कविताएँ

Others

स्त्री-पुरुष संबंधों पर लिखी अर्पण कुमार की कविताएँ

3    13.8K 6

सीमा

Others

जिसकी बंज़र ज़मीन पर इंसानियत की हरी घासें जहाँ-तहाँ उगी हुई हैं

1    7.0K 3