Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Saurabh Sharma   Author of the Year 2018 - Nominee

I am a software engineer working in TCS and writing is my hobby so whatever and whenever I feel I write. I am not a professional writer but still try to understand the life, love, hate or anything and try to write something situational. I do open mics and trying to improve my writing. मैं तो नौसीखियाँ हूँ सुख रहा हूँ.. इश्क़ की राहों पर चलने वाला सफ़र का शायर हूँ! लिखने की कोशिश करता हूँ... हाँ अल्फ़ाज़ो से रंग भरता हूँ! read more

  Literary Colonel

ग़ज़ल: दर्द लिखूँ या नाम तेरा

Drama

उजलत में इश्क़ कर लिया था, 'सफ़र' देख तू भी अंजाम मेरा...

1    139 6

गज़ल

Drama

तेरा वो घर मेरा ही ससुराल बने, अपना निकाह एक मिसाल बने !

1    3.1K 8

गज़ल

Drama

अब तो मुकद्दर भी संग नहीं 'सफ़र', उनको वापस क़रीब फिर बुलाऊँ कैसे !

1    606 7

ग़ज़ल

Drama

कोशिशें सब बेकार रह गयी 'सफ़र', खिलके मैं इतना अब मुरझाऊँ कैसे !

1    114 4

मैं सत्य हूँ, मैं ज्ञान हूँ

Drama Inspirational

ख़ुद में झाँक ले ज़रा, तुझी में विद्यमान हूँ, मैं एक वरदान हूँ, मैं सत्य हूँ, मैं ज्ञान हूँ !

1    3.2K 4

लिखने को पास मेरे

Drama

शायरों की महफ़िल में लेके चलूँ मैं 'सफ़र,' कयी शेर हैं यहाँ के कयी बद-गुमानी है !

1    90 4

तनहा तनहा रह गया ये दिल

Drama

चलो अब आगे तुम बढ़ो 'सफ़र', पीछे काफ़ी रह गया ये दिल !

1    176 8

मगर यूँही रह गया

Romance

'मेरी कहानी, मेरा किस्सा था तो बड़ा ही लाजवाब, मगर युहीं रह गया उनसे दीदार ये मेरा।' एक सुंदर प्रणय ...

1    7.1K 6

क्यूँ है

Others Romance

'उनके जबीं-ए-तले को चूमना चाहते है होंठ मेरे, शायद उन्हें भी पसंद है तो फिर इतना वो शर्माते ही क्यू...

1    14.9K 5

तलबगार

Romance

यह एक प्यार करनेवाले दिल की आवाज़ है ।

1    13.4K 9

लरज़िश

Others

'ख़ुद खुदा को दिया था वादा तूने फिर भी तू बाज़ ना आया, और ये कहकर परछाईं ने मेरी मुझको फिर टोक दिया।...

1    13.4K 7

मैं फिर भी कोसी जाती हूँ

Inspirational Others

'पैदा होते ही मरवा देते क्यूँ है मुझको, कोई सहारा आज फिर क्यूँ नही है मुझको ।' एक बिछड़ी हुई भारतीय म...

1    13.4K 3

मैं फ़र्द हूँ अपनी मशिय्यतों क

Drama Romance

मुझ से क्या पूछते हो, पता इश्क़ की उन बस्तियों का, मैं ख़ुद भटका हुआ हूँ, उसकी वीराना गलियों में.....

2    13.3K 5