Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
न मै कभी अन्याय सह पाया
न मै कभी अन्याय सह पाया
★★★★★

© Nikhil Sharma

Others

1 Minutes   7.0K    5


Content Ranking

न मै कभी अन्याय सह पाया 
न ही कभी चुप रह पाया
जो लगा गलत, उसे कहा गलत

भले डगर मंजिल तक पहुंचाए
राह अगर नापाक है तो, है उसपे चलना गलत
जब हम अपने साथियों को साथ ले चल सकते नहीं
तो किस तरह अपनी सोच को बता सकते सही ?
हर किसी की अपनी है सोच, और अपना है नजरिया
जो सोचे अपनी सोच को फरमान के तौर पर 
हर वो फरमान गलत

एकता न होने से ही हम गुलाम हुए 
एक हम थे नहीं, तो टुकड़े हज़ार हुए 
मौन होकर बाँटने दिया हमने, हर किसीको जिसका दिल हुआ 
वो लूटते रहे आबरू, और उनका ही रुतबा आयर हुआ 
कहा था भगत ने, आवाज़ उठाने की है कवायद आ गयी 
गैरों तक तो ठीक था, अब अपनों की आत्मा भी सो गयी ...
है अगर अपने भी तो, गलत को देख चुप रहना न ठीक है ...
है अगर कुछ गलत, तो हम उसे कहेंगे गलत 
हाँ हम भी ढीठ हैं
जो अन्याय, और खुदगर्जी से सनी हो
जो राहें, बस स्वार्थ से सनी हो 
है गलत, तो कहूँगा गलत

chup theek galat

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..