Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
धुंध
धुंध
★★★★★

© Kaberi Roychoudhury

Tragedy Abstract

1 Minutes   13.8K    5


Content Ranking

उस दिन धुंध ही धुंध थी

नदी भी हिम बनी हुई थी

हर एक पेड़ शीत के निद्रा में

पत्ते अधिकतर झड़ चुके थे

इक आग जो जलाई तुमने

मैं और सब झड़े चुके पत्ते

जल उठे उस अग्नि में

धीरे-धीरे एक उष्णता फैली

चारों ओर हमारे

प्रेमहीन ह्रदय में भी शायद!

एक अग्निशिखा तीव्र 

उस पहचाने से चेहरे की

वो ठहरी हुई आँखे

आँख से आँखों तक...!

किसी ने कहा था शायद,

मांस जले तब बेहतर

किसी ने कहा,

ले आओ बकरा 

ज़िब्ह करें सब मिल

कर इस ठंडी रात में

सिहर गई थी मैं

पहचाने मनुष्यों के स्थिर आँखे

एक-दूजे को ज़िब्ह करने की

कहानियों को दुहराते!

जाने किसने किसे क़त्ल किया

जाने कौन ख़ुद की बली पर ख़ुश हुआ

वो साँवली सी छोटी लड़की भी

किसी के नज़र का शिकार हुई

दिल नहीं मिले उस दिन

सिर्फ़ ज़िस्म की आदम गंध ही फैली उस रात!

पद्दमा नदी दूर से ही देख रही थी

उसके ठंडे ज़िस्म पर

बूंद-बूंद जमते पसीने को !!

पत्ते रात आग

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..