Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
अयोध्या 5 हनुमान वाटिका
अयोध्या 5 हनुमान वाटिका
★★★★★

© Udbhrant Sharma

Others

1 Minutes   13.9K    4


Content Ranking

अयोध्या

‘हनुमान वाटिका’

 

कनकमहल के निकट

हनुमान वाटिका

जिसमें अजर-अमर

साधारणजन के देवता

एकादशवें रुद्र

महापराक्रमी, ज्ञानी,

कवियों में शिरोमणि

रामभक्त हनुमान

माता जानकी के

चरणों में लगाए हुऐ ध्यान

उनकी रक्षा-हित सन्नद्ध

विनम्रता का प्रतिमान

मूत्र्त करते हुऐ

उपस्थित।

हनुमान वाटिका में

आज भी

बन्दरों की चहलपहल,

उछलकूद,

खों-खों और

क्याँव-क्याँव

पूरे माहौल को

किऐ रहती राम और सीतामय।

उन्हें देखते हैं

तो याद हमें आता है

आदि मानव से मनुष्य बनने के प्रसंग में

आख़िरकार

वे ही थे जिन्होंने हमें

प्रगति का,

विकास का

दिखाया रास्ता।

अलग बात है कि हम

भटक ही नहीं गऐ ,

प्रगतिचक्र को

हमने घुमा दिया उलटा

और लगे चलने

उस ओर ही

जहाँ अंततः

मिलेगा हमको

वही आदिमानव

जो देख हमें उछलेगा-कूदेगा,

हर्ष मनाऐगा।

क्योंकि दूर होगा

उसका अकेलापन

फिलवक़्त

यह विडम्बना है हमारी

जिस बिन्दु पर

खड़े हैं हम आज

उसके दोनों ओर हनुमान

हमसे हैं

कोसों दूर!

मनुजता की यात्रा में

एक ओर हमें

देने को अभय

और दूसरी ओर

बढ़ते हुए

हमारे भीतर के

क्रूर पशुरूपी हिं-दैत्य का

अपनी एक ही

मुष्ठिका के प्रहार से

अन्त कर देने को।

 

 

अयोध्या 5 हनुमान वाटिका

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..