Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
चूहेदानी
चूहेदानी
★★★★★

© Udbhrant Sharma

Others

2 Minutes   7.0K    6


Content Ranking

चूहों से पाने के लिऐ निज़ात

आख़िरकार

मैं ले आया एक चूहेदानी

बाज़ार से

चूहेदानी के हुक में

रोटी का मक्खन लगा टुकड़ा लगाकर

रात में ही रख दिया

घर के एक कोने में

दरवाजा उसका खुला छोड़

और उसकी स्प्रिंग को

चूहेदानी के कड़े में अटकाकर

सुबह उठा तो देखा

एक चूहे महाशय

चूहेदानी में

कर रहे थे मटरगश्ती

और उस छोटे से पिंजड़े में चक्कर काटते

इधर से उधर

यहाँ से वहाँ

खोज रहे थे

बाहर निकलने का द्वार

नहीं उन्हें मिल रहा था जो

सारी रात वे

चूहेदानी में बन्द रहे

भूख तो लगी होगी निश्चय ही उन्हें

रोटी का टुकड़ा तो

उपलब्ध था

खाया तो होगा कुछ

उत्सुकता हुई मुझे

देखा चूहेदानी के पास जा

रोटी का टुकड़ा

सही सलामत था

ज़रा भी नहीं कुतरा गया उसे

और चूहे राजा

नहीं देख भी रहे थे

उसकी ओर

एक बाद अपनी नन्ही आँखों से

देखकर मुझे

वे ज़ोरों से मचाने लगे धमाल

दौड़-दौड़

चूहेदानी के भीतर

कहाँ से

बाहर निकलें?

रोटी के मक्खन लगे

जिस टुकड़े ने

उनके क्षुधातुर मन को

चूहेदानी के भीतर जाकर

फँसने के लिऐ

किया आकर्षित

धोखे से उसमें

पाकर बन्द स्वयं को

उनकी भूख

हो गई ग़ायब

उनकी पेट भरने की विवशता ने

उनकी कम बुद्धि ने

जो पढ़ने-लिखने के अभाव का

कारण थी

उन्हें दे दी जेल अनायास,

अयाचित उन्हें

ग़ुलामी की बेड़ियों में

क़ैद कर लिया गया

भोजन के अभाव में

वे अधिक समय नहीं रहेंगे ज़िन्दा

किन्तु रातभर उनके सामने

सुस्वादु भोजन था उपलब्ध जो

उसकी ओर दृष्टि उठाकर भी

देखा नहीं उन्होंने

उन्हें यह महसूस हुआ:

यह पौष्टिक भोजन-उफ़

जिसकी चाहत ने

उन्हें बन्द किया चूहेदानी की जेल में-

‘इसे खाने से तो अधिक अच्छा है

मर जाना!’

उन्होंने यह भी सोचा

‘रूखा-सूखा खाकर

जिस तरह वे

कर रहे अपना जीवन-यापन थे-

वह तो वस्तुतः उनका

समय था सर्वोत्तम;

और अगर कभी वे

मुक्त हो गऐ

इस कारागृह से

तब वे निश्चय ही

रूखी-सूखी ही खाकर

स्वतन्त्रता की साँसें लेते हुऐ

जीवन बिताऐंगे अपना।’

तभी उन्होंने देखा:

वह चूहेदानी जिसमें वे बन्द थे

हवा में उठी धीरे-धीरे,

चलने लगी हवा में ही

घर के मालिक की

ख़रामा-ख़रामा चाल से

अचानक खुला दिखा उन्हें

चूहेदानी का दरवाज़ा

और एक बार भी

सुस्वादु रोटी के टुकड़े की ओर

नहीं देखते हुऐ

उन्होंने छलाँग मारी

उस क़ैद से निकलने को

सामने खुले दिखते

विस्तृत मैदान में

और फिर

उनकी दहाड़

सुनाई दी

पूरे देश में!

उस दहाड़ से

भयभीत हो

चूहेदानी का मालिक

बदल गया चूहे में!

उसे दिखाई दिया

चूहेदानी के खुले द्वार से झाँकता

रोटी का टुकड़ा

और उसके नथुनों ने सूँघी

उस पर लगे मक्खन की

स्वादिष्ट गन्ध

अगले क्षण

वह चूहेदानी में क़ैद!

चूहेदानी

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..