Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

Babita Kushwaha

Others


2  

Babita Kushwaha

Others


माँ की चिंता

माँ की चिंता

2 mins 203 2 mins 203

एक औरत जब से गर्भवती होती है तभी से बच्चे के लिए उसकी चिंता शुरू हो जाती है और जीवनपर्यन्त बनी रहती है। बच्चा नौ महीने गर्भ में रहता है लेकिन माँ को चिंता लगी रहती है कि बच्चे को सही मात्रा में पौष्टिक आहार मिल रहा है कि नहीं, मेरे इस तरह से काम करने या इस तरह से सोने से बच्चे को कोई तकलीफ़ तो नहीं होगी आदि।


मेरा बेटा अभी दो साल का है। उसके खेलने-कूदने, खाने पीने और स्वास्थ्य संबंधी चिंतायें तो रहती ही है लेकिन सबसे बड़ी चिन्ता जो मुझे अभी से डराने लगी है वो है उसके किशोरावस्था का समय। एक समय के बाद उसका बचपन निकल जायेगा और वह किशोरावस्था में कदम रखेगा। शायद सभी माता पिता सबसे ज़्यादा चिंतित इसी अवस्था को लेकर होंगे क्योंकि इसी अवस्था में बच्चे का भविष्य निर्धारित होता है। वह किस प्रकार की संगत में रहता है किस तरह के दोस्तों के साथ पढ़ता लिखता है या घूमता फिरता है क्योंकि जीवन में सबसे ज्यादा प्रभाव संगत का ही पड़ता है। बच्चे दोस्त स्वयं बनाते है और उन्हें इस उम्र में इतना सही गलत का फर्क पता नहीं होता। इस उम्र में बच्चे हमेशा यही देखते है कि दूसरे क्या कर रहे है, क्या पहन रहे है, क्या सोच रहे। और इस उम्र में एक माँ की जिम्मेदारी ओर अधिक बढ़ जाती है। 


तेजी से बदलता समय और आज कल की सामाजिक कुरीतियां मुझे यह सब सोचने को विवश कर देती है। हर माँ बस इतना ही चाहती है कि उसका बच्चा बड़ा होकर तंदुरुस्त, समझदार, नेक और दूसरों की परवाह करने वाला इंसान बने। मैं जानती हूं कि यह काफी हद तक माँ पर ही निर्भर करता है लेकिन क्या करूँ माँ हूँ न चिंता तो लगी ही रहती है। एक माँ की चिंता अपने बच्चे के लिए कभी खत्म नहीं होती जब तक माँ जीवित रहेगी अपने बच्चों की चिंता करती रहेगी।



Rate this content
Log in