ऑडियो

मंच

पढ़ें

प्रतियोगिता

भाषा


लिखें

साइन इन
Wohoo!,
Dear user,

नोट : कन्टेन्ट क्रमांक चुने हुए जोनर के तहत फिल्टर में प्रदर्शित होंगे : drama

ये गाँव में बिताई छुट्टियाँ होती कभी ननिहाल में बीतती तो वो कुछ और रंग की होतीं शहर read more

4     375    18    1632

रघुवर पर शिक्षक के इस व्यंग्य का गहरा प्रभाव पड़ा। चार साल बाद read more

1     67    3    1937

सपने
© Sneh Goswami

Children Stories Drama +1

बच्चों को उससे प्रेरणा लेने, मेहनत करने की सलाह दी थी और एक दिन अचानक स्कूल से फोन read more

3     256    16    681

राजेश दुखी होकर वहाँ से चला गया। उसने आसमां की ओर देखा। उसने पाया कि सूरज read more

1     17    2    1940

दोस्त
© Alok Mishra

Children Stories Drama

बाइक की रफ्तार न जाने क्यों बहुत कम हो चुकी थी। फिर सोचने लगा था कि मिलकर क्या read more

9     544    7    205

मैं एक कॉलेज में पढ़ती हूँ पर कभी सोचा नहीं था कि कोई इतना करीब आ सकता read more

2     34    1    467

टाइम सीरम
© Saket Shubham

Children Stories Drama +1

पाँच सालों में उस वक़्त के मानव जीवन को उन्होंने अनेक उपकरण देकर उस वक़्त read more

4     479    11    451

तभी उसे एक जानी-पहचानी आवाज सुनाई दी। यह तो डोरेमोन की आवाज है। वह आँख भींच कर जोर read more

2     107    4    941

एक दिन अचानक सेठानी के बच्चे को पोलियो ने जकड़ लिया, अब वो पैर से ठीक से नहीं चल पा read more

3     64    0    892

कंजक
© Aprajita Jaggi

Children Stories Drama +1

गरीब बच्चों के माँ-बाप को बच्चों की कमाई का लालची समझने की मध्यमवर्गीय मानसिकता सिर read more

2     41    3    465

फ्योदोर फ्योदोरोविच कल्पाकोव पानी के नीचे गया और डाइवर्स ऊपर से टेलिफोन पर उससे read more

2     65    0    893

गुड़िया को आपरेशन थिएटर ले जाया गया और आपरेशन शुरू कर read more

1     351    8    3667

दोस्त
© Sunita Mishra

Children Stories Drama +1

पिताजी ने अपना ट्रांसफर दूसरे शहर ले लिया। वो जानते थे की मैं बिना अपने दोस्तो के read more

5     84    0    1556

लेखिका : ऐना स्युअल अनुवाद : आ. चारुमति read more

4     83    0    1428

कोई व्यक्ति इतना स्वार्थी कैसे हो सकता है ? क्या उन्होंने सचमुच इतना हिसाब - किताब read more

9     26.9K    257    41

मैं आपसे बहुत प्यार करती हूँ।” – कहते हुए उसने पापा के गालों को चूम read more

8     1.6K    109    6

हम अपनी धुन में खोए थे कि, सूरजमुखी ने हमें झकझोरा …. अरे कला, कहां खोई है, जा तुझे read more

14     932    69    40

कभी सोचती कि, “वह कहीं माता - पिता के प्रेम में फरेब और कपट की प्रतिछाया तो नहीं ? read more

20     716    69    1

कॉलेज में सभी को आगाह किया गया कि जो भी कॉलेज से बाहर जायेगा वो सिक्योरिटी को बताएगा read more

17     14.7K    41    167

लेखक : निकोलाय गोगल अनुवाद : आ. चारुमति read more

6     576    47    51

. "हमें नये जीवन का आशीर्वाद दीजिये पापा read more

14     337    53    4

एकालाप
© Jiya Prasad

Inspirational Fantasy +1

एक औरत का read more

9     22.6K    62    7

क्या क्या हुआ जब अम्मा गिरी खड्डे मैं....पर अम्मा गिरी थी या उनको धकेला गया था..या read more

8     15.0K    75    72

हाँ सरकार, विश्वास मानिए, वे मर गई हैं। साँस बंद है, आँखें read more

16     1.0K    68    8

वरुण ने उसके कंधे पर हाथ रखा तो वीथी ने उसके कंधे पर सर रख दिया. सामने हरेभरे read more

11     331    52    105

क्या सच में उसका रविवार कभी नहीं आएगा। क्या कोई दिन ऐसा नहीं होगा जो उसकी भी छुट्टी read more

5     307    52    141

भैया ! बहुत हुआ, अब इसे छोड़ दो ! अपनी करनी का फल भोगे जाकर, मालती दरवाजे पर हाथ जोड़े read more

17     597    43    12

एक सच्ची घटना पर read more

8     14.4K    30    305

यह एक काल्पनिक कहानी है इसका किसी जाती विशेष के साथ कोई सम्बन्ध नहीं है किसी भी read more

18     1.9K    59    14

वक्त के साथ जाने कब पति पत्नी एक दूजे की तरह सोचने लगते और इस बदलाव को कभी सहज हो read more

5     69    1    135