Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Ragini Uplopwar

Others


1.0  

Ragini Uplopwar

Others


सूर्य

सूर्य

1 min 372 1 min 372

प्रातः से शाम तक

उत्साह पूर्वक अपनी खोज में

निकले हो तुम

दिन भर पसीना बहाकर

शाम को कुछ उदास नजर आते हो तुम

अपनी आकांक्षाओं के "पर "

पैरो से क्यों काट कर नहीं फेकते हो तुम

आखिर कब तक

परिक्रमा करते रहोगे तुम

आखिर कब तक


Rate this content
Log in