Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Pawanesh Thakurathi

Others

5.0  

Pawanesh Thakurathi

Others

पहाड़ की नारी

पहाड़ की नारी

1 min
746


पहाड़ पर पग धरते-धरते

पहाड़ पर रंग भरते-भरते

पहाड़-पहाड़ करते-करते


पहाड़ की नारी

पहाड़ पर रहते-रहते

पहाड़ को सहते-सहते

पहाड़-पहाड़ कहते-कहते


पहाड़ की नारी

पहाड़ पर नमक बोते-बोते

पहाड़ पर पलक धोते-धोते

पहाड़-पहाड़ ढोते-ढोते


पहाड़ की नारी

पहाड़ पर हँसते-रोते

पहाड़ को खोते-पाते

पहाड़-पहाड़ होते-होते

पहाड़ की नारी

पहाड़ हो ही गई। 


Rate this content
Log in